इंदौर

मध्यप्रदेश में SBI महिला बैंक मैनेजर ने कर डाला बड़ा कांड, ग्राहकों के खातों से गायब किये 3 करोड़ रूपए

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:31 AM GMT
मध्यप्रदेश में SBI महिला बैंक मैनेजर ने कर डाला बड़ा कांड, ग्राहकों के खातों से गायब किये 3 करोड़ रूपए
x
मध्यप्रदेश में SBI महिला बैंक मैनेजर ने कर डाला बड़ा कांड, ग्राहकों के खातों से गायब किये 3 करोड़ रूपए इंदौर बैंक से पैसे निकल जाने की खबर

मध्यप्रदेश में SBI महिला बैंक मैनेजर ने कर डाला बड़ा कांड, ग्राहकों के खातों से गायब किये 3 करोड़ रूपए

AMAZON DEALS – UPTO 50% OFF

इंदौर ( विपिन तिवारी ) । बैंक से पैसे निकल जाने की खबर अब तक आम लोगों की होती थी। लेकिन अब एक बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। इंदौर की एक महिला बैंक मैनेजर ने मेहनत की कमाई पर डांका डाला है।कोई और नहीं महिला बैंक मैनेजर और बैंक का ही एक कर्मचारी ही है। EOW ने SBI महिला बैंक मैनेजर और कर्मचारी के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।

मध्यप्रदेश में 2 साल से अटकी शिक्षक भर्ती को लेकर आई बड़ी खबर, पढ़िए

3 करोड़ रुपए गायब यह मामला इंदौर शहर की भारतीय स्टेट बैंक की सियागंज शाखा का है। जहां बैंक मैनेजर रहीं श्वेता सुरोईवाला और एक कर्मचारी कौस्तुभ सिंगारे के खिलाफ EOW ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है। आरोप है कि दोनों ने मिलकर 49 खाताधारकों के खातों से करीब तीन करोड़ रुपए निकाले हैं।

Best Sellers in Health & Personal Care

ये भी पता चला है कि जब खाता धारक बैंक में पैसा जमा कराने के लिए आते थे तो पैसे उनके खातों में जमा न करके बड़े ही शातिर तरीके से दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दिया जाता था और बाद में बैंक मैनेजर श्वेता सुरोईवाला और कर्मचारी कौस्तुभ इन पैसों को निकाल लेते थे। इतना ही नहीं ये भी जानकारी मिली है कि कई लोगों के नाम से लोन भी इन कर्मचारियों के द्वारा निकाले गए हैं और जिन लोगों के नाम पर लोन निकाला गया है उन्हें ही इसकी जानकारी नहीं है। पर्सनल लोन, होम लोन और वाहन लोन में भी बड़ी गड़बड़ियां सामने आई हैं।

कृषि ऋण माफी के कारण मप्र में किसानों की आत्महत्या में 53% की गिरावट : कांग्रेस

खुलेगा कई फर्जीवाड़ा का राज शाखा के खाताधारकों ने खातों में पैसा जमा न होने की शिकायत पुलिस में की थी जिसके बाद जब पुलिस ने मामले की तफ्तीश शुरू की तो बड़ी गड़बड़ी उजागर हुई। खाताधारकों के खातों की जांच की गई तो ये पता चला कि खातों में एंट्री सही से नहीं की जाती थी। जांच अधिकारी ने बताया कि 16 अप्रैल 2018 से 5 जुलाई 2019 तक की जांच करने पर पता चला है कि खाताधारकों ने जो पैसे अपने अकाउंट में जमा कराए वो पैसे शाखा के विभिन्न खातों में एनईएफटी ट्रांसफर, मिनिमम बैलेंस चार्जेस रिर्वसल, पीपीएफ खाते में जमा किया गया और बाद में इन पैसों को अनक्लेम्ड खातों के जरिए निकाला गया है।

रीवा में रिश्ता हुआ कलंकित, चाचा ने भतीजी के साथ किया दुष्कर्म….

Best Sellers in Watches

Best Sellers in Beauty

MARKET से ज्यादा सस्ते ONLINE मिलते है घर के डेली यूज़ के सामान

वायरल न्यूज़ के लिए Ajeeblog.com विजिट करिये

[signoff]
Next Story
Share it