इंदौर

Dussehra 2021: MP में यहाँ सेनेटाइज़ करने वाला रावण पुतला हो रहा तैयार, 15 फिट के इंजेक्शन से होगा दहन

indore ravan
x
मध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस थीम पर आधारित होगा रावण दहन।

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में इस वर्ष कोरोना से बचाव को लेकर रावण का पुतला दहन होगा। इसके लिए जहां सेनेटाइज़ करने वाला रावण पुतला तैयार हो रहा है वही 15 फिट के इंजेक्शन से पुतला दहन होगा। यानि की दशहरा उत्सव तथा रावण पुतला दहन की पूरी थीम कोरोना में लोगों को वैक्सीन लगवाने और सतर्क रहने के मैसेज देने के लिए तैयार किया जा रहा है।

21 फीट के रावण को 15 फिट का इंजेक्शन करेगा दहन

दरअसल इंदौर में 21 फीट ऊंचा कोरोना रूपी रावण तैयार किया जा रहा है। इस पुतले को जलाने के लिए 15 फीट लंबी एक मशाल तैयार किया गया है और इस मशाल को इंजेक्शन का रूप दिया गया है। इस पुतले का निर्माण संस्था सूर्यमंच द्वारा किया गया है। संस्था के पदाधिकारियों ने बताया कि इस वर्ष संस्था ने कोरोना को सामाजिक बुराई माना है, जो कई लोगों का जीवन समाप्त कर गया है। यही वजह है कि इस वर्ष कोरोना रूपी रावण तैयार किया गया है और वैक्सीन रूपी मशाल से उसका दहन किया जाएगा।

रात 9 बजे रावण पुतले को लगेगी वैक्सीन

दरअसल इस कोरोना रूपी रावण का दहन श्री कृष्ण टॉकिज के सामने दशहरे पर रात 9 बजे किया जाएगा। इससे यह संदेश दिया जाएगा कि कोरोना को हराना है तो वैक्सीन जरूरी है। इसके साथ ही फायर ब्रिगेड के कर्मचारी भी यहां तैनात रहेंगे।

100 फिट तक सैनेटाइजर करेगा रावण पुतला

कोरोना से बचाव के लिए सैनेटाइजर जरूरी है। कुछ इस तरह का संदेश देते हुए इंदौर के उषागंज छावनी मैदान में सैनिटाइज करने वाला रावण पुतला तैयार हो रहा है। दशहरे में शमिल होने वाले लोगों पर करीब 100 फीट दूर तक यह पुतला सैनेटाइजर की बौछार करेगा। 41 फीट के लम्बे रावण पुतले को एकता समिति तैयार कर रही है।

हिन्दु-मुस्लिम मिलकर कर रहे तैयार

खास बात यह है कि इस पुतले को हिंदू-मुस्लिम मिलकर तैयार कर रहे हैं। यह रावण पैर से लेकर धड़ तक लोहे का रहेगा, जबकि इसका चेहरा प्लाई से तैयार किया जाएगा।

चलता फिरता तैयार किया गया है रावण पुतला

समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि यह रावण पूरी तरह से वाटर प्रूफ भी रहेगा। अगर बारिश आती भी है तो रावण को जलने में कोई परेशानी नहीं होगी। दो प्रकार से सैनेटाइजर भी समिति द्वारा ही तैयार किए जा रहे है, जिसमें एक अल्कोहल मिला तो दूसरा नगर निगम द्वारा इस्तेमाल किया जाना वाला सैनिटाइजर रहेगा। चलित रावण पुतला जो करीब 40 फीट आगे पीछे होगा और लोगों पर सैनिटाइजर डालेगा। रावण को आगे पीछे करने के लिए लोहे की ट्राली और चार बैरिंग का इस्तेमाल किया जा रहा है। दशहरा के दिन करीब दो से तीन घंटे तक चलने वाले इस आयोजन में लगभग 10 हजार लीटर सैनेटाइजर का इस्तेमाल किया जाएगा।

Next Story