इंदौर

MP विधानसभा चुनाव 2018: 25 सालों से यहाँ अपना परचम लहराने को तरस रही 'कांग्रेस'

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:01 AM GMT
MP विधानसभा चुनाव 2018: 25 सालों से यहाँ अपना परचम लहराने को तरस रही कांग्रेस
x
Get Latest Hindi News, हिंदी न्यूज़, Hindi Samachar, Today News in Hindi, Breaking News, Hindi News - Rewa Riyasat

भोपाल: मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सियासी पारा लगातार चढ़ता जा रहा है. चुनावी तारीख की घोषणा के साथ ही बीजेपी और कांग्रेस ने कमर कस ली है. चुनावी चौसर पर नित नई चालें चली जा रही हैं और अपने पक्ष में पासा पलटने की भरपूर कोशिशें शुरू हो गई हैं. इन सबके बीच मध्य प्रदेश विधानसभा की 230 सीटों में से कुछ सीटें ऐसी भी हैं जिन पर बीते 25 वर्षों से लोगों को कांग्रेस के 'हाथ' का साथ नहीं भाया है. इन सीटों पर बीजेपी का कब्जा लगातार बरकरार है. ऐसी ही एक सीट है इंदौर संभाग की इंदौर-2 सीट.

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव भी तीन बार चुने गए विधायक इंदौर संभाग की कुल 9 विधानसभा सीटों में से एक इंदौर-2 सीट पर बीते 25 वर्षों से बीजेपी का वर्चस्व कायम है. 2013 और 2008 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से बीजेपी के रमेश मेंदोला दो बार जीत हासिल की थी. मेंदोला से पहले 2003 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय विधायक थे. विजयवर्गीय इस सीट से तीन बार विधायक चुने गए थे. 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी मेंदोला ने 1,33,669 वोटों के साथ जीत दर्ज की थी. वहीं, कांग्रेस प्रत्याशी छोटू शुक्ला को 42,652 वोट ही प्राप्त हुए थे. बीजेपी प्रत्याशी मेंदोला ने 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी को रिकॉर्ड 91 हजार वोटों से हराया था.

3 लाख 33 हजार मतदाता करेंगे भाग्य का फैसला चुनाव आयोग के अनुसार, वर्तमान में इस सीट पर 3,34062 मतदाता हैं. इनमें से 1,73,548 पुरुष मतदाता, 1,60,357 महिला मतदाताओं के साथ थर्ड जेंडर के 26 मतदाता शामिल हैं. 2013 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर वोटिंग प्रतिशत 65.63 रहा था. कुल 2,84,804 मतदाताओं में से 1,85,365 ने ही अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. वहीं, 2008 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार रमेश मेंदोला को कुल 75,333 वोट प्राप्त हुए थे. उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार सुरेश सेठ को 39,937 वोटो से हराया था. कांग्रेस प्रत्याशी को 35,396 वोट मिले थे. बता दें कि मध्य प्रदेश में एक चरण में 28 नवंबर को चुनाव होंगे. मध्‍य प्रदेश में दो नवंबर को चुनावों की अधिसूचना जारी होगी. 9 नवंबर तक राज्‍य में नामांकन कराया जा सकेगा. साथ ही 11 दिसंबर को सभी राज्‍यों में मतगणना होगी.

मध्य प्रदेश चुनाव 2013 का परिणाम साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 165 सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं, कांग्रेस ने 58 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस चुनाव में बीएसपी को 4 सीट और 3 निर्दलीय प्रत्याशियों को जीत मिली थी. इस चुनाव में बीजेपी को 44.88 फीसदी और कांग्रेस को 36.38 फीसदी वोट मिले थे. इस चुनाव में बीएसपी को 6.29 फीसदी वोट प्राप्त हुए थे. इस चुनाव में कुल मतदाता संख्या 4,66,36,788 थी. इसमें से 2,45,71,298 पुरुष और 2,20,64,402 महिलाएं थीं. 2003 विधानसभा चुनाव में 1,81,47,550 पुरुषों और 1,54,65,338 महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस चुनाव में मतदान का कुल प्रतिशत 72.07% रहा था. इस चुनाव में पुरुष आबादी में से 73.86 फीसदी और महिला आबादी में से 70.09 फीसदी ने मतदान किया था.

मध्य प्रदेश चुनाव 2008 का परिणाम मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2008 में बीजेपी 143 सीटें जीतने में सफल हुई थी. वहीं, कांग्रेस ने 71 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस चुनाव में बीएसपी को 7, भारतीय जन शक्ति (बीजेएसएच) को 5, समाजवादी पार्टी को 1 और निर्दलीय प्रत्याशियों को 3 सीटों पर जीत मिली थी. इस चुनाव में बीजेपी को 37.64 फीसदी और कांग्रेस को 32.39 फीसदी वोट मिले थे. इस चुनाव में बीएसपी को 8.97, बीजेएसएच को 4.71, एसपी को 1.99 और निर्दलीय उम्मीदवारों को 8.23 फीसदी वोट मिले थे.

इस चुनाव में कुल मतदाता संख्या 3,62,66,969 थी. इसमें से 1,91,36,733 पुरुष और 1,71,30,236 महिलाएं थीं. 2003 विधानसभा चुनाव में 1,38,36,701 पुरुषों और 1,12,90,419 महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस चुनाव में मतदान का प्रतिशत कुल 69.28% रहा था. इस चुनाव में पुरुष आबादी में से 72.30 फीसदी और महिला आबादी में से 65.91 फीसदी ने मतदान किया था.

मध्य प्रदेश चुनाव 2003 का परिणाम साल 2003 में हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में राज्य की 230 विधानसभा सीटों के लिए मतदान किया गया था. बीजेपी ने इस चुनाव में 173 सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं, कांग्रेस ने 38 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस चुनाव में समाजवादी पार्टी को सात, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (गोंगपा) को तीन, राष्ट्रीय समानता दल (आरएसएमडी) को दो सीटों पर जीत मिली थी. वहीं, बीएसपी को दो, सीपीएम को एक, एनसीपी को एक, जेडीयू को एक और दो निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत दर्ज की थी.

बता दें कि इस चुनाव में बीजेपी को 42.50 फीसदी और कांग्रेस को 31.61 फीसदी वोट मिले थे. इस चुनाव में बीएसपी को 7.26 फीसदी और एनसीपी को 1.27 फीसदी वोट प्राप्त हुए थे. सीपीएम को 0.24, जेडीयू को 0.55, एसपी को 3.71, गोंगपा को 2.03, आरएसएमडी को 1.31 और निर्दलीय प्रत्याशियों को 7.70 फीसदी वोट मिले थे. इस चुनाव में कुल मतदाता संख्या 3,79,36,518 थी. इसमें से 1,97,97,038 पुरुष और 1,81,39,480 महिलाएं थीं. 2003 विधानसभा चुनाव में 1,42,41,844 पुरुषों और 1,12,71,686 महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस चुनाव में मतदान का कुल प्रतिशत 67.25% रहा था. इस चुनाव में पुरुष आबादी में से 71.94 फीसदी और महिला आबादी में से 62.14 फीसदी ने मतदान किया था.

Next Story
Share it