इंदौर

शहरी स्वच्छता के साथ-साथ ग्रामीण विकास योजनाओं में भी अव्वल बना इंदौर

शहरी स्वच्छता के साथ-साथ ग्रामीण विकास योजनाओं में भी अव्वल बना इंदौर
x
इंदौर शहर अपनी स्वच्छता के लिए देश में तो नंबर वन है, अब ग्रामीण विकास की योजनाओं में भी इंदौर जिला मध्य प्रदेश में अव्वल आया है। विभिन्न ग्रामीण विकास की योजनाओं में प्रगति के आधार पर मध्य प्रदेश की सभी जिला पंचायतों की ग्रेडिंग में इंदौर ज़िले को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा 09 विभागीय योजनाओं में प्रगति के आधार पर प्रदेश की 51 जिला पंचायतो की ग्रेडिंग 23 मार्च, 2021 को जारी की गई।

इंदौर शहर अपनी स्वच्छता के लिए देश में तो नंबर वन है, अब ग्रामीण विकास की योजनाओं में भी इंदौर जिला मध्य प्रदेश में अव्वल आया है। विभिन्न ग्रामीण विकास की योजनाओं में प्रगति के आधार पर मध्य प्रदेश की सभी जिला पंचायतों की ग्रेडिंग में इंदौर ज़िले को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा 09 विभागीय योजनाओं में प्रगति के आधार पर प्रदेश की 51 जिला पंचायतो की ग्रेडिंग 23 मार्च, 2021 को जारी की गई।

इस ग्रेडिंग में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन, मनरेगा, वाटरशेड, प्रधानमंत्री आवास, मध्यान्ह भोजन, स्वच्छ भारत मिशन, सी.एम. हेल्प लाइन, मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर एवं पंचायत सेक्टर की योजनाओं में प्रदेश की सभी जिला पंचायतों का मूल्यांकन किया गया। उक्त मूल्यांकन में A+ ग्रेड प्राप्त कर जिला पंचायत इन्दौर प्रदेश में प्रथम स्थान पर रही है। प्रदेश में एक मात्र इन्दौर जिले को ही A+ ग्रेड मिला है। मनरेगा योजना अंतर्गत जिले को 81 अंक मिले है एवं योजना में जिला प्रथम स्थान पर है। मनरेगा अंतर्गत जिले में वर्ष में 23.24 लाख मानव दिवस सृजन के साथ 104 प्रतिशत लक्ष्य पूर्ति की गई है। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन मे जिले को 81 अंको के साथ A ग्रेड प्राप्त हुई है।

मिशन अंतर्गत 2875 स्व-सहायता समूहों का गठन किया जाकर वर्ष मे 749 लाख की बैंक सीसी लिमिट उपलब्ध कराई गई है। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना वाटरशेड अंतर्गत जिले को A ग्रेड प्राप्त हुई है। योजना अंतर्गत आईडब्लूएमपी-10 परियोजना अंतर्गत गंभीर नदी के केचमेंट मे 24 नाला ट्रेचिंग, 25 चेक डेम एवं 22 रिचार्ज शाफ्ट का निर्माण किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत जिले को 80 अंको के साथ A ग्रेड प्राप्त हुई है। मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम में जिले को 99 अंको के साथ A ग्रेड प्राप्त हुई है। स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत जिले को 90 प्रतिशत अंको के साथ A ग्रेड प्राप्त हुई है। योजना अंतर्गत जिले मे 200 सामुदायिक स्वच्छता परिसर निर्माण किये गये है एवं 38 पंचायतों मे डोर टू डोर कचरा संग्रहण एवं सेग्रिगेशन कार्य का पायलट प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है। सी.एम. हेल्प लाईन में जिले को 84.85 प्रतिशत अंको के साथ A ग्रेड प्राप्त हुई है।

सीएम स्ट्रीट वेंडर मे जिले को 73.92 अंक प्राप्त हुये है। योजना अंतर्गत 1825 परिवारों को बैंक ऋण उपलब्ध कराया गया। जिला पंचायत के कार्यपालन अधिकारी हिमांशु चन्द्र ने बताया कि गत माह जिले की रैंकिंग चौथे स्थान पर थी जिसे इस माह प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है। संभागों की रैंकिंग मे भी इन्दौर संभाग गत माह की पांचवे स्थान से उन्नत होकर इस बार प्रदेश के सभी संभागो मे प्रथम स्थान पर रहा है।

Next Story