इंदौर

INDORE में 72 साल से चली आ रही रंग पंचमी परम्परा बरकार, कोरोना के खौफ से एक निरस्‍त

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:14 AM GMT
INDORE में 72 साल से चली आ रही रंग पंचमी परम्परा बरकार, कोरोना के खौफ से एक निरस्‍त
x
Indore News रंगों के त्योहार रंगपंचमी पर 72 साल से चली आ रही गेर की परंपरा एक बार फिर शनिवार को राजवाड़ा चौक पर नजर आएगी। इसमें हर चेहरे पर लाल-गुलाबी रंग प

Indore News रंगों के त्योहार रंगपंचमी पर 72 साल से चली आ रही गेर की परंपरा एक बार फिर शनिवार को राजवाड़ा चौक पर नजर आएगी। इसमें हर चेहरे पर लाल-गुलाबी रंग पुतेगा और सद्भाव के गुलाल से आसमान में तिरंगा बनेगा। इसके साक्षी बनने के लिए महिला, पुरुष, बच्चे, बूढ़े और युवा सभी जुटेंगे। 72 years of Rang Panchami tradition in INDORE, revoked, revoked by fear of Corona

इस वर्ष टोरी कॉर्नर, संगम कॉर्नर, रसिया कॉर्नर और मॉरल क्लब की चार गेर निकलेंगी लेकिन हिंद रक्षक संगठन की राधाकृष्ण फाग यात्रा को कोरोना के चलते आयोजक ने निरस्त कर दिया है। वर्षों से चली आ रही इस परंपरा में समय के साथ कई बदलाव आए हैं। कभी राजवाड़ा पर राजा और प्रजा साथ मिलकर रंग-गुलाल के इस पर्व में शामिल होते थे। देश की आजादी के बाद इस उत्सव का रंग-रूप बदल गया।

क्षेत्र के व्यापारी ओमप्रकाश शास्त्री बताते हैं कि वे 57 साल से गेर देख रहे हैं। शुरुआती दौर में संगम कॉर्नर पर रंगों से भरे कढ़ाव में शहर के प्रतिष्ठित व्यक्ति को डुबोने की परंपरा थी। व्यक्ति को टाट के कपड़े पहनाकर सब्जियों की माला पहनाई जाती थी। कपड़ा व्यवसायी इंद्रकुमार सेठी बताते हैं कि इसमें लोग घोड़े-बग्घियों पर रंग उड़ाते निकलते थे। अब वाहन पर मिसाइलों से रंग उड़ाया जाता है।

टोरी कॉर्नर : मिसाइलों से बरसाएंगे रंग

टोरी कॉर्नर रंगपंचमी समिति की 73वीं गेर सुबह 10 बजे मल्हारगंज से निकाली जाएगी। आयोजक शेखर गिरि का कहना है कि गेर गोराकुंड, खजूरी बाजार, राजवाड़ा, बड़ा सराफा, सीतलामाता बाजार, इतवारिया बाजार होते हुए टोरी कॉर्नर पर समाप्त होगी। हर बार की तरह इस बार भी मिसाइलों से रंग छोड़ा जाएगा। लोगों को भिगोने के लिए ट्रैक्टर-ट्रॉली की व्यवस्था भी की गई है।

संगम कॉर्नर : रहेगा बांके-बिहारी का डोल

संगम कॉर्नर चल समारोह समिति द्वारा 65वीं गेर सुबह 11 बजे संगम कॉर्नर एमजी रोड से निकाली जाएगी। गेर गोराकुंड, खजूरी बाजार, राजवाड़ा, सराफा, सीतलामाता बाजार होते हुए फिर संगम कॉर्नर पर समाप्त होगी। आयोजक कमलेश खंडेलवाल ने बताया कि गेर के लिए 8 हजार किलो टेसू के फूलों से रंग और 2500 किलो फूलों की व्यवस्था की गई है। इसमें बांके बिहारी का डोल आकर्षण का केंद्र रहेगा। इसके साथ ही गुलाल की मिसाइलों से आसमान में तिरंगा बनेगा।

मॉरल क्लब : रंग जमाएगी महाराष्ट्र की ढोल पार्टी

मॉरल क्लब की गेर सुबह 10.15 बजे मल्हार पल्टन से निकाली जाएगी। आयोजक अभिमन्यु मिश्रा ने बताया कि गेर का यह 48वां वर्ष है। गेर में कम्प्रेशर से गुलाल उड़ाया जाएगा। इसमें 100 महाराष्ट्र की ढोल पार्टी रंग जमाएगी। गेर मल्हार पल्टन, मल्हारगंज, गोराकुंड, खजूरी बाजार, राजवाड़ा, सराफा, इतवारिया बाजार होते हुए वापस मल्हार पल्टन आएगी।

रसिया कॉर्नर : 250 युवक रहेंगे केसरिया हेलमेट में

रसिया कॉर्नर नवयुवक मित्रमंडल द्वारा सुबह 10.30 बजे 47वीं गेर ओल्ड राजमोहल्ला से निकाली जाएगी। संयोजक राजपाल जोशी ने बताया कि गेर टोरी कॉर्नर, खजूरी बाजार, फ्रूट मार्केट, सराफा, शक्कर बाजार, सीतलामाता बाजार होते हुए पुन: राजमोहल्ला में समाप्त होगी। गेर केसरिया रंग में रंगी रहेगी। इसमें 250 युवक केसरिया रंग का हेलमेट पहनकर चलेंगे। पांच टैंकरों से मिसाइलों के जरिए जो रंग छोड़ा जाएगा, वह भी केसरिया होगा।

Next Story
Share it