इंदौर

INDORE और BHOPAL में 15 फरवरी के बाद आए 12125 लोग, सबकी तलाश शुरू

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:17 AM GMT
INDORE और BHOPAL में 15 फरवरी के बाद आए 12125 लोग, सबकी तलाश शुरू
x
भोपाल. कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश सरकार ने उन लोगों की सूची जारी की है जो 15 फवरी के बाद विदेश से लौटे हैं। इसमें इंदौर

भोपाल. कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश सरकार ने उन लोगों की सूची जारी की है जो 15 फवरी के बाद विदेश से लौटे हैं। इसमें इंदौर के 4415 और भोपाल के 2605 लोग शामिल हैं। सबसे कम शहडोल से एक व्यक्ति विदेश से लौटा है। इन लोगों में कोरानावायरस की आशंका ज्यादा जताई जा रही है। अब इन लोगों के घर के आगे कोविड-90 सस्पेक्टेड के पोस्टर चिपकाए जा रहे हैं।

प्रदेश सरकार ने लोगों की निजता बनाए रखने के लिए सिर्फ जिलेवार संख्या के आंकड़े बताए हैं। विदेश मंत्रालय ने इनके पते सहित लिस्ट मध्य प्रदेश समेत बाकी राज्यों को गृह मंत्रालय और स्वास्थ्य विभाग को भेजे हैं। अब जिला प्रशासन एक-एक व्यक्ति के घर जाकर पोस्टर चस्पा कर रहा है और होम क्वारेंटाइन होने की कह रहा है। पड़ोसियों को भी ये हिदायत दी जा रही है कि संबंधित व्यक्ति या उसका परिवार नियमों का पालन नहीं करता है तो उसकी सूचना कॉल सेंटर में दी जाए।

15 फरवरी के बाद किस जिले में आए कितने लोग

भिंड 5, भोपाल 2605, छतरपुर 195, छिंदवाड़ा 98, दमोह 9, दतिया 3, देवास 122, धार 134, डिंडोरी 3, ग्वालियर 689, गुना 67, हरदा 13, होशंगाबाद 197, इंदौर 4415, जबलपुर 725, झाबुआ 14, खंडवा 212, कटनी 153, खरगौन 51, मंदसौर 45, मुरैना 20, नरसिंहपुर 47, नीमच 206, पन्ना 7, रायसेन 29, राजगढ़ 12, रतलाम 510, रीवा 60, सागर 205, सतना 156, सीहोर 135, शहडोल 1, शिवपुरी 43, सीधी 12, सिंगरोली 13, टीकमगढ़ 28, उज्जैन 605, उमरिया 20, विदिशा 77, कुल 12125 लोग विदेश से लौटे हैं।

एरिया के लोगों से मांगेंगे 28 दिन का हिसाब

विदेश से लौटे लोगों के यहां स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंचने लगी है। सभी लोगों से सर्वे फार्म भरवाए जा रहे हैं। इसमें पूरे 28 दिनों की जानकारी मांगी जा रही है। इसमें पूछा जाएगा कि वह किस रेस्त्रां, होटल, मॉल, बार, अन्य घरों, किराना-सब्जी दुकान, मंदिर या अन्य धार्मिक स्थल या कहां-कहां गए थे। किस-किस से और कितने लोगों से मिले। उनके स्वास्थ्य की लगातार मॉनिटरिंग भी होने लगी है। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन की टीम को जो लोग मिल रहे हैं, उन्हें घर में ही रहने की सख्त हिदायत दी जा रही है। ऐसे लोगों से कहा जा रहा है कि अगर तबीयत खराब होती है तो बिना देर किए कॉल सेंटर को फोन करें। अपनी मर्जी से कोई दवाई नहीं खाएं।

लड़ाई-झगड़े के मामले भी सामने आ रहे हैं

भोपाल समेत प्रदेश में कई स्थानों पर लोगों ने विदेशे से आने की जानकारी जिला प्रशासन और पुलिस को नहीं देने पर केस दर्ज किए हैं। भोपाल, ग्वालियर और छतरपुर में एक-एक मामला ऐसे लोगों पर दर्ज हुआ है। इधर, विदेश मंत्रालय द्वारा भेजी गई सूची के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका के चलते घर के सामने पोस्टर चिपकाए जा रहे हैं। सरकार के इस कदम के बाद लड़ाई झगड़े की नौबत आ रही है। लोग इसे अपनी निजता का हनन मान रहे हैं। उनका कहना है कि इससे उनकी बदनामी हो रही है। भोपाल में विदेश से लौटे दो परिवार के लोग जिला प्रशासन की टीम से झगड़ने लगे।

सरकार ने की अपील

इधर राज्य सरकार ने अपील जारी कर कहा है कि राज्य में 15 फरवरी के उपरांत विदेश से लौटने वाले मध्य प्रदेशियों की सूची जन स्वास्थ्य संरक्षण के हित में जारी की जा रही है। यदि किसी व्यक्ति द्वारा प्रोटोकॉल का अनुसरण नहीं किया जाता है तो इसकी सूचना तत्काल जिला कंट्रोल रूम या 104 हेल्पलाइन पर दें। साथ ही, जन समुदाय से यह भी अपील की जाती है कि वह अपने आस पास में रह रहे क्वारेंटेड व्यक्तियों के प्रति सद्भाव रखें और यदि कभी भी उनके स्वास्थ्य कि कोई शिकायत होती है तो तत्काल सूचना अपने जिला कंट्रोल रूम में दें।

Next Story
Share it