Health

World Hypertension Day 2022: जानिए क्या है वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे का महत्व और इस वर्ष की थीम

World Hypertension Day 2022: जानिए क्या है वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे का महत्व और इस वर्ष की थीम
x
एक सर्वे के अनुसार भारत में हर 8 व्यक्तियों में से एक को हाइपरटेंशन (Hypertension) की समस्या है। हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) एक ऐसी समस्या है जिससे किसी व्यक्ति की जान तक जा सकती है.

World hypertension day: आजकल अधिकतर लोगों को हाई ब्लड प्रेशर (Hypertension) की समस्या रहती है। ब्लड प्रेशर के हाई होने को मेडिकल भाषा में हाइपरटेंशन (Hypertension) के नाम से जाना जाता है, वर्ष 2017 में नेशनल फैमिली हेल्थ (National Family Health) की तरफ से एक सर्वे किया गया, जिसके अनुसार भारत में हर 8 व्यक्तियों में से एक को हाइपरटेंशन की समस्या है। आपको बता दें हाई ब्लड प्रेशर एक ऐसी समस्या है जिससे किसी व्यक्ति की जान तक जा सकती है, इतना ही नहीं इस समस्या को साइलेंट किलर के नाम से भी जाना जाता है, इसलिए 17 मई को विश्व उच्च रक्तचाप दिवस (World Hypertenssion Day) के रूप में मनाया जाता है, जिससे लोगों में इस जानलेवा समस्या के प्रति जागरूकता फैलाई जा सके। आइए जानते हैं इस दिन का क्या महत्व है और इस वर्ष world hypertension day की थीम क्या है?

World hypertension day क्यों मनाया जाता है इसकी शुरुआत कब हुयी? (Why is World Hypertension Day celebrated and when did it start?)

वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे को मनाने की शुरुआत की गई वर्ल्ड हाइपरटेंशन लीग (World hypertension league) की तरफ से, जिसकी स्थापना 2005 में हुई। आपको बता दें कि 14 मई 2005 को सबसे पहले विश्व उच्च रक्तचाप दिवस सेलिब्रेट किया गया लेकिन वर्ष 2006 में इस दिन को मनाने की तिथि की घोषणा ऑफिशियल रूप से की गई, जो की थी 17 मई।

क्या है इस साल की थीम? (Theme of "World Hypertension Day 2022)

हर वर्ष इस दिन की नई थीम निर्धारित की जाती है "वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे 2022" की थीम (Theme of "World Hypertension Day 2022") है अपने रक्तचाप (Blood pressure) को सटीक रूप से मापे, इसे नियंत्रित करें और लंबे समय तक जीवित रहे।"

उच्च रक्तचाप एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें धमनी ऊपर रक्त का दबाव बढ़ जाता है, जिस कारण धमनियों में प्रॉपर रूप से ब्लड फ्लो बनाए रखने के लिए ह्रदय को ज्यादा पंप करना पड़ता है। आपको बता दें हृदयाघात (Heart Attack) पड़ने के पीछे सबसे बड़ा कारण होता है उच्च रक्तचाप। इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी हाई बीपी के मरीजों को काफी सतर्कता बरतने की सलाह देते हैं। आमतौर पर एक सामान्य व्यक्ति का ब्लड प्रेशर होता है 120/80! अगर व्यक्ति का ब्लड प्रेशर से अधिक हो तो वह हाई ब्लड प्रेशर की श्रेणी में आता है।


Next Story