General Knowledge

ये है दुनियां की सबसे महंगी वस्तु जिसकी 1 ग्राम की कीमत 100 छोटे देश के बराबर है. जानिये

Aaryan Dwivedi
16 Feb 2021 6:22 AM GMT
ये है दुनियां की सबसे महंगी वस्तु जिसकी 1 ग्राम की कीमत 100 छोटे देश के बराबर है. जानिये
x
ये है दुनियां की सबसे महंगी वस्तु जिसकी 1 ग्राम की कीमत 100 छोटे देश के बराबर है. जानिये वैसे तो दुनिया में कई ऐसी वस्तु और पदार्थ  है जिसकी क

ये है दुनियां की सबसे महंगी वस्तु जिसकी 1 ग्राम की कीमत 100 छोटे देश के बराबर है. जानिये

वैसे तो दुनिया में कई ऐसी वस्तु और पदार्थ है जिसकी कीमत करोडो -अरबो में है. कई लोग तो सोने-हीरे और प्लैटिनम को ही दुनिया की सबसे महंगी वस्तु समझ रहे होंगे, लेकिन दुनियां में कई ऐसे पदार्थ हैं जिनकी कीमत दुनियां के देशों की जीडीपी से भी ज्यादा है.
ऐसा ही एक पदार्थ है जिसे एक ग्राम बेचने पर दो -दो पाकिस्तान खरीदा जा सकता है. ये मजाक बिल्कुल भी नहीं है. दुनिया के 90 फीसदी लोगों को इस वस्तु का नाम तक नहीं सुना होगा। आइये आपको बताते है की वह ऐसी कौन सी वस्तु है जिसकी कीमत इतनी अधिक है.

शीशे की तरह चमकता है भारत की इस नदी का पानी, पारदर्शिता ऐसा कि तल भी दिखता है साफ़

एंटीमैटर है दुनियां की सबसे महंगी वस्तु

इस चीज का नाम है एंटीमैटर। जिसे दुनियां की सबसे महंगी वस्तु माना जाता है. इसे प्रतिपदार्थ भी कहा जाता है. प्रतिपदार्थ पदार्थ का एक ऐसा प्रकार है जो प्रतिकणों जैसे प्रति-प्रोटोन , प्रति-न्यूट्रॉन और प्रति -क्वार्कों के बने होते हैं.अगर हम इसकी कीमत की बात करें तो पैरों टेल जमीन खिसक जाएगी।अगर इसे एक ग्राम बेंचा जाये तो दुनिया के 100 छोटे -छोटे देशों को खरीदा जा सकता है. जी हाँ इसके 1 ग्राम की कीमत 31 लाख 25 हज़ार करोड़ रूपए है.
उड गए न होश. ये दुनिया का सबसे महंगा पदार्थ है. अब आप जानना चाहते होंगे कि ये किस काम में आता है तो आपको बता दे कि अंतरिक्ष करने या दुसरे ग्रहों में जाने के लिए अंतरिक्ष यान में जो ईधन भरा जाता है वो इसी एंटीमैटर से बनता है, वैसे तो यह आम लोगों के लिए धरती पर कोई काम का नहीं है लेकिन जब अंतरिक्ष की बात होती है तो अंतरिक्ष में यह एक बेशकीमती पदार्थ बन जाता है. आपने हॉलीवुड की कई ऐसी फिल्म देखि होगी जिसमें दुश्मन देश के द्वारा एंटीमैटर चुराने की कहानी होती है इस विषय पर कई फिल्मे भी बन चुकी हैं.

ये है भारत की अंतिम सड़क, जो भरा है रहस्यों से जानिये

दुनिया की सबसे महंगी चीज एंटीमैटर को कैसे बनाया जाता है

आपको पता चल गया होगा कि इसका प्रयोग अंतरिक्ष यान के ईधन में होता है लेकिन इसे बनया कैसे जाता है? तो आपको बता दें कि प्रतिपदार्थ यानि एंटीमैटर पदार्थ का एक ऐसा प्रकार है जो प्रतिकणों जैसे पॉजिट्रॉन, प्रति-प्रोटोन , प्रति-न्यूट्रॉन से मिलकर बना होता है, ये प्रति-प्रोटोन और प्रति-न्यूट्रॉन, प्रति -क्वार्कों में बने होते हैं. जिस जगह पर इसका उत्पादन किया जाता है वहाँ सबसे कड़ी सुरक्षा रखी जाती है. आपको जानकार हैरानी होगी की 1 मिलीग्राम प्रतिपदार्थ को बनाने में 160 करोड़ रूपए तक लग जाते हैं इससे आप अंदाजा लगा सकते है कि इसको बनाना कितना मुश्किल काम है.
अमेरिकन अंतरिक्ष एजेंसी NASA के मुताबिक़ आज के समय में एंटीमैटर दुनियां का सबसे महंगा पदार्थ बन चुका है यह बहुत कम मात्रा में होता है फिर भी इसकी सुरक्षा में अमेरिका की सबसे कड़ी सुरक्षा लगाई जाती है अंतरिक्ष एजेंसी NASA भी इस बात को मान चुकी है कि एंटीमैटर एक बेसगकीमती पदार्थ है. वैसे वैज्ञानिकों का मानना है कि अंतरिक्ष में ब्लैक होल द्वारा तारों के दो हिस्सों को चीरने की घटना पर एंटीमैटर उत्पन्न होता है, हालाँकि अब इसे कई मुश्किलों के बाद भी वैज्ञानिकों द्वारा भी बनाया जा सकता है
ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook, Twitter, WhatsApp, Telegram, Google News, Instagram
Next Story
Share it