General Knowledge

रानी कमलापति: एक परियों की तरह खूबसूरत रानी, जिनकी सुंदरता ही बन गई थी जान की दुश्मन, उन्ही के नाम से जाना जाएगा हबीबगंज रेलवे स्टेशन

Abhijeet Mishra
14 Nov 2021 8:42 AM GMT
Rani Kamalapati Story in hindi
x
भोपाल की अंतिम गोंड शासक रानी कमलापति को बचपन से लेकर अंतिम दिनों तक सिर्फ धोखा ही मिला था

15 नवंबर को देश के सबसे पहले वर्ल्डक्लास रेलवे स्टेशन हबीबगंज रेलवे स्टेशन (रानी कमलापति रेवले स्टेशन) का शुभारम्भ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों होना है। हबीबगंज स्टेशन का नाम बदलकर रानी कमलावती रेलवे स्टेशन रखा जाना है। आज हम आपको रानी कमलावती के इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं। कहते हैं वो रानी किसी परियों की तरह खूबसूरत थी जिनकी खूबसूरती ही उनकी जान की दुश्मन बन गई थी। बचपन से लेकर उनके अंतिम दिनों तक रानी को अपनों का धोखा सहना पड़ा था।

कौन थीं रानी कमलापति

रानी कमलापति गिन्नौरगढ़ के राजा निजाम शाह की विधवा गोंड शासक थीं. निजाम शाह एक गोंड राजा थे और उनकी 7 पत्नियां थीं जिनमे से एक रानी कमलापति थीं। कहते हैं रानी कमलापति किसी परी की तरह खूबसूरत थी और इसी लिए वो राजा की सबसे प्रिय थीं। उस वक़्त निजाम शाह के भतीजे आलम शाह बाड़ी में राज करता था और वह अपने चाचा से काफी जलता था। आलम शाह अपने चाचा निजाम की दौलत, तख़्त, और रानी कमलापति के होने से ईर्ष्या करता था। वो अपनी चाची की खूबसूरती का कायल था और उसने रानी से इसका इजहार भी किया था लेकिन कमलापति ने आलम शाह के इजहार को ठुकरा दिया था।

राजा को ज़हर देकर मार डाला गया


आलम शाह ने अपने चाचा और राजा निजाम शाह का कत्ल कर दिया। उसने एक बार खाने में ज़हर मिलाकर उनकी हत्या कर दी। और इसका दोष रानी कमलापति पर मढ़ा जाने लगा। खुद को और अपने बच्चे को बचाने के लिए रानी कमलापति अपने बेटे नवल शाह को गिन्नौरगढ़ से भोपाल के रानी कमलापति महल लेकर आ गईं. हालातों की मारी रानी कमलपति अपने शोहर की मौत का बदला लेने के लिए तड़प रही थीं लेकिन उनके पास तो ना फ़ौज थी और ना ही दौलत।

रानी के दोस्त मुहम्मद खान ने भी दिया धोखा


रानी अपने शोहर की मौत का बदला लेना चाहती थी, इस दौरन उनकी मुलाकात दोस्त मुहम्मद खान से हुई, दोस्त मुहम्मद खान पहले मुग़ल सेना का हिस्सा हुआ करता था लेकिन लूट की संपत्ति में हिसाब गड़बड़ाने से उसे सेना से निकाल दिया गया था। इसके बाद दोस्त मुहम्मद ने भोपाल के पास जगदीशपुर में अपना शासन कायम कर लिया था। रानी कमलापति ने दोस्त मुहम्मद खान से अपने पति का बदला लेने के लिए मदद मांगी। इसके बदले दोस्त मुहम्मद ने उन एकलाख रुपए की मांग राखी जिसके बाद वो तैयार हो गईं.

रानी के बेटे को दोस्त मुहम्मद खान ने मार डाला

दोस्त मुहम्मद खान ने बाड़ी के राजा पर हमला कर उसकी हत्या कर दी जिसके बाद रानी कमलापति उसके कारनामें से खुश हो गईं, लेकिन अपने वादे के अनुसार उसे एक लाख रुपए देने में नाकाम रही। दोस्त मुहम्मद खान का दिल भी रानी की खूबसूरती में आगया लेकिन रानी ने मुहम्मद खान की बेगम बनने से इंकार कर दिया। एक लाख रुपए ना देने के बदले रानी ने दोस्त मुहम्मद को भोपाल का एक हिस्सा दे दिया। जब रानी का बेटा नवल शाह बड़ा हुआ तो उसे दोस्त मुहम्मद खान के कब्जे को लेकर अप्पति हुई जिसके बाद दोस्त मुहम्मद खान ने नवल शाह को भी धोखे से ज़हर देकर डाला था।


Next Story
Share it