General Knowledge

World Soil Day: क्या आप जानते हैं विश्व मृदा दिवस 5 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है?

World Soil Day
x
World Soil Day: 5 दिसंबर को मनाया जाता है वर्ल्ड सॉइल डे।

World Soil Day in hindi: पूरे विश्व में लगभग हर रोज किसी ना किसी दिवस को मनाया जाता है। आजकल सोशल मीडिया के इस युग में हमें हर दिन के महत्व के बारे में पता चल जाता है। इनमें से एक है वर्ल्ड सॉइल डे (World Soil Day) यानि विश्व मृदा दिवस। हर साल

5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन का मुख्य उद्देश्य जनसंख्या को जागरूक करना है जिससे मृदा में बढ़ रहे प्रदूषण को कम किया जा सके।

कैसे बढ़ता है मृदा प्रदूषण?

किसानों के द्वारा उपयोग में ली जाने वाली रासायनिक खाद और कीटनाशक दवाइयां, फैक्ट्रियों से निकलने वाले पानी के साथ गंदे रासायनिक तत्व जो मृदा में मिलकर मृदा को जहरीली बना रहे हैं। जिससे मृदा की उपजाऊ क्षमता घटती है। जिससे खाद्य सुरक्षा पेड़-पौधों के विकास के लिए और जीवो के जीवन का आवास व मानव जाति के लिए एक बड़ी चुनौती हैं। ऐसे में मृदा का संरक्षण करना काफी जरूरी हो गया है।

5 दिसम्बर को ही क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड सॉइल डे?

विश्व मृदा दिवस को थाईलैंड के स्वर्गीय राजा एच.एम भूमिबोल अदुल्यादेज की याद में मनाया जाता है। उनका जन्मदिवस 5 दिसंबर को होता है और वे मिट्टी के स्थाई प्रबंधन, मृदा स्वास्थ्य पहल के मुख्य समर्थकों में से एक थे। इसलिए मृदा दिवस के लिए 5 दिसंबर को ही चुना गया।

वर्ल्ड सॉइल डे का इतिहास ? (World Soil Day History)

2002 में 5 दिसंबर को हर साल वर्ल्ड सॉइल डे मनाने की मांग की गई थी। और साथ ही खाद्य और कृषि संगठन ने भी विश्व मृदा दिवस की औपचारिक स्थापना को स्थापित करने के लिए थाईलैंड के नेतृत्व में समर्थन दिया। एफएओ सम्मेलन में 20 दिसंबर 2013 को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 68वें सत्र द्वारा विश्व मृदा दिवस को 5 दिसंबर मनाने की घोषणा की गई। जिसके बाद सर्वप्रथम 5 दिसंबर 2014 को विश्व मृदा दिवस मनाया गया था।

विश्व मृदा दिवस 2021 की थीम क्या है ? (World Soil Day 2021 Theme)

विश्व मृदा दिवस 2021 की थीम मृदा लवणीकरण को रोकें, व मृदा उत्पादकता को बढ़ावा दें, हैं। जिसका प्रमुख उद्देश्य मृदा जागरूकता बढ़ाना और स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र और मानव कल्याण को बनाए रखने के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। जो लोगों के हित में होता है। और दुनिया भर के सरकारों, संगठन समुदाय ,और व्यक्तियों को प्रोत्साहित करना होता है। प्रति जागरूक बढ़ाना और प्रोत्साहन करना होता है इस थीम का प्रमुख उद्देश्य मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार लाना है।

मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार लाना आखिरकार क्यों जरूरी है?

आखिरकार क्यों जरूरी है मिट्टी को स्वस्थ बनाना आइए जानते हैं। अगर मिट्टी ही नहीं होती तो हमारा जीवन ही नहीं होता क्योंकि मिट्टी में ही पेड़-पौधें उगते हैं, जो हमें ऑक्सीजन प्राप्त करवाते हैं और मिट्टी से ही हमें खाद्य-पदार्थ प्राप्त होते हैं। अगर मिट्टी का स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहेगा तो खाद्य पदार्थ जो हम सेवन करते हैं। उसी में भी वही गंदगी आती

Next Story