Unseen heavy, funeral pyre of two brothers of the same pyre…-.jpg

अनदेखी पड़ी भारी, एक ही चिता दो भाइयों का अंतिम संस्कार ....

RewaRiyasat.Com
Sandeep Tiwari
02 Mar 2021

जींद। कभी-कभी अनदेखी इतनी भारी पड़ जाती है कि जीवन संकट में आ जाता है। इसी अनदेखी का परिणाम यह हुआ मां की कोख ही उजड गई। दो बेटों की मौत हो जाने पर उनका अंतिम संस्कार एक ही चिता पर करना पड़ा। 
जानकारी के अनुसार हरियाणा के जींद के गांगोली गंाव में उस समय मातम पसर गया जब देा बच्चे घर के अंागन मे ंरखे पानी के एक बडे टब में गिर गये। और दोनेा की मौत हो गई। 

बताया जाता है कि जीद गांव के रहने वाले प्रवीण कुमार के दोनों बेटे की पानी के टंकी नुमा टब में डूबने से मौत हो गई। प्रवीण का बड़ा बेटा नक्ष जो चार वर्ष का था तो वहीं दूसरा छोटा बेटा दक्ष जो डेढ वर्ष का था।

बच्चो के पिता प्रवीण तथा दादा बलवान नंबरदार खेत में गए थे। बच्चों की मां मंजू रसोई के काम मे व्यस्त थी। दोनो बच्चे वही बाहर खेल रहे थंे। इसी दौरान बच्चे पशुओं के लिए पानी का एक टंकी नुमा बडा से टब में खेलते हुए जा गिरे। और पानी से बाहर नहीे निकल सके। 

खते से जब पिता घर आये तेा देखा कि दोनों बच्चे पानी के टब मंे गिरे हुए है। आनन-फानन में पिता ने बच्चो को निकाला और पिल्लूखेड़ा और जींद के निजी अस्पताल लेकर गए। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। 

बताया जाता है कि बच्चों को चिकित्सकों ने परीक्षण के बाद मृत घोषित कर दिया। इस घटना की जानकारी जैसे ही लोगों को हुई सभी आशचर्य चकित हो गये। दोनों भाइयों का एक ही चिता पर दाह संस्कार किया गया।
 

SIGN UP FOR A NEWSLETTER