क्राइम

तीन बच्चों की वजह से नौकरी न छिन जाए इसी लिए संविदाकर्मी ने अपनी 5 महीने की बेटी को मार डाला

तीन बच्चों की वजह से नौकरी न छिन जाए इसी लिए संविदाकर्मी ने अपनी 5 महीने की बेटी को मार डाला
x
राजस्थान में एक सरकारी कर्मचारी ने अपनी 5 महीने की बेटी को नहर में फेंककर मार डाला, इस काम में उसकी पत्नी ने भी साथ दिया

Rajasthan News: राजस्थान के बीकानेर जिले से दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है. जहां एक शख्स ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर अपनी ही 5 महीने की बेटी को मार डाला। उस मासूम की बलि इसी लिए चढ़ा दी क्योंकी वह उसकी तीसरी संतान थीं. राजस्थान में सरकारी नौकरी उन्हें ही मिलती है जिनके दो बच्चे से ज़्यादा औलाद न हों. 5 महीने की तीसरी बेटी आरोपी पिता की नौकरी के लिए खतरा थी

बीकानेर में 5 महीने की बच्ची की हत्या

मामला बीकानेर के छतरगढ़ थाना क्षेत्र का है. जहां राजस्थान सरकार में संविदा कर्मचारी के रूप में काम करने वाले एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर अपनी 5 महीने की बेटी को नहर में फेंककर मार डाला। इस अपराध में मुख्य आरोपी की पत्नी ने भी पूरा सहयोग किया। दंपत्ति ने उस 5 महीने की मासूम को इसी लिए मार डाला क्योंकी वह आरोपी पिता की नौकरी के लिए खतरा थी.

पुलिस ने बताया कि आरोपी का नाम झवरलाल मेघवाल है. झवरलाल छतरगढ़ थाना क्षेत्र का रहने वाला है. पुलिस के मुताबिक झवरलाल राजस्थान सरकार में संविदा कर्मचारी है. वो स्थायी सर्विस पाने की उम्मीद कर रहा था. लेकिन उसके तीन बच्चे थे और तीन बच्चे वाले व्यक्ति को राजस्थान में नौकरी नहीं मिलती है

राजस्थान सरकार की निति के कारण मार डाला

झवरलाल के पहले से ही दो बच्चे थे. तीसरे बच्चे के जन्म की वजह से वो राजस्थान सरकार की दो बच्चों की नीति के कारण स्थायी नौकरी को लेकर आशंकित था. सरकार की नीति के तहत तीसरे बच्चे के जन्म पर कर्मचारी की अनिवार्य रूप से सेवा से पृथक कर दिया जाता है. इसी कारण उसने अपने तीसरे बच्चे को नहर में फेंक दिया।

23 जनवरी के दिन पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. बीकानेर पुलिस अधीक्षक ने आगे बताया कि इस मामले में झवरलाल मेघवाल और उनकी पत्नी गीता देवी के खिलाफ छतरगढ़ थाने में FIR दर्ज कर ली है. पुलिस ने इस मामले में IPC की धारा 302 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है.

Next Story