बिज़नेस

पूजा करने वाले स्थान में आप रख दे ये चीज़े फिर बरसने लगेगा पैसा ही पैसा, सोचना पड़ेगा पैसा कहा रखे, जानिए!

Sandeep Tiwari
15 Jan 2022 4:22 PM GMT
personal loan
x
हर व्यक्ति की चाहत होती है कि माता लक्ष्मी की कृपा उस पर सदैव बनी रहे।

हर व्यक्ति की चाहत होती है कि माता लक्ष्मी की कृपा उस पर सदैव बनी रहे। साथ ही सभी चाहते है कि माता लक्ष्मी उसके घर में निवास करें उनका साथ कभी भी न छोड़ें। लेकिन सभी लोगों के साथ ऐसा होना संभव नहीं हो पाता। आज हम माता लक्ष्मी को अपने घर में निवास करने के उपाय बताने जा रहे हैं। इसके लिए घर में कुछ चीजों का रहना आवश्यक है। इन चीजों के संबंध में मान्यता है कि जिस घर में यह सभी चीज मौजूद है माता लक्ष्मी भी मौजूद रहेंगी।

गंगाजल

गंगाजल के संबंध में आमतौर पर लोगों को पता ही है कि यह सबसे पवित्र जल के रूप में देवताओ का आशीर्वाद है। गंगाजल का उपयोग हर शुभ कार्य में किया जाता है। इस जल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह कभी खराब नहीं होता। कहा गया है कि घर में गंगाजल रखने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

मोर पंख

श्री कृष्ण का सबसे प्रिय वस्तु मोर पंख है। मोर पंख के कहा गया है कि इसे पूजा स्थल पर अवश्य रखना चाहिए। इससे भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होती है। जिस घर में मोर पंख रखा होता है वहां नेगेटिव एनर्जी समाप्त होती है।

शालिग्राम

शालिग्राम भगवान विष्णु का ही स्वरूप है। जिस घर में शालिग्राम भगवान की प्रतिदिन पूजा होती है वहां कभी भी दरिद्रता नहीं आती। साथ ही महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है। शालिग्राम भगवान की पूजा तब तक पूर्ण नहीं मानी जाती जब तक शालिग्राम भगवान के ऊपर तुलसी पत्र न चढ़ा दिया जाए।

शंख

शंख और माता लक्ष्मी की उत्पत्ति सागर मंथन के समय हुई थी। माता लक्ष्मी शंख को अपना भाई मानती हैं। कहा गया है कि जिस घर में शंख रखा होता है वहां माता लक्ष्मी निवास करती हैं। साथ ही भगवान विष्णु का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है भगवान विष्णु शंख को धारण करते हैं।

सही स्थान में हो पूजा घर

कई बार लोग पूजा कहीं भी भगवान को रखकर शुरू कर देते हैं। लेकिन इसमें भी हमें परहेज करना चाहिए। पूजा स्थल के लिए ईशान कोण सबसे उपयुक्त बताया गया है। ईशान कोण का अर्थ है पूरब और उत्तर दिशा के कोने मैं भगवान को स्थापित कर उनकी पूजा करनी चाहिए। ऐसा करने से भगवान का आशीर्वाद मिलता है एवं घर से वास्तु दोष दूर होता है।

नोट-ः उक्त समाचार में दी गई जानकारी सूचना मात्र है। रीवा रियासत समाचार इसकी पुष्टि नहीं करता है। दी गई जानकारी प्रचलित मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है। ऐसे में किसी कार्य को शुरू करने के पूर्व विशेषज्ञ से जानकारी अवश्य प्राप्त कर लें।

Next Story
Share it