क्रिप्टोकररेंसी समझे बेहद आसान भाषा में
आपने क्रिप्टोकरेंसी का नाम जरूर सुना होगा ये एक आभासी मुद्रा है जिसे हम छू या देख नहीं सकते हैं, इसे ऑनलाइन मुद्रा भी कह सकते हैं
जो हमारे वॉलेट में सेव रहती है, कई देशो की कम्पनिया क्रिप्टो करेंसी में पेमेंट एक्सेप्ट करती है, इसका उपयोग करके शॉपिंग , ट्रेडिंग, ट्रैवेलिंग आसानी से कर सकते हैं ,
पेमेंट का प्रोसेसिंग चार्ज लगभग न के बराबर लगता है, दुनियाभर में 5000 से भी ज्यादा क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं, भारत में अभी तक ये उतना पॉपुलर नहीं था लेकिन कुछ समय से फिर से चलन में आ रहा है
इसके भारत में कम प्रचलन एक कारन यह भी है की हम भारतीय निवेश के पारम्परिक तरीके जैसे, FD, म्यूच्यूअल फण्ड, शेयर्स व गोल्ड में ही इन्वेस्ट करते हैं
बिटकॉइन से लाभ
इससे इंटरनेशनल ट्रांजक्शन चुटकियों में किया जा सकता है ,इसमें कोई मिडिल मैन नहीं होता है ये ज्यादा सिक्योर व कॉन्फिडेंशल होता है
वर्तमान में एक बिटकॉइन की कीमत 32 लाख रु हैं , इसकी डिमांड बहुत ज्यादा है , लेकिन इसकी संख्या सीमित है
क्योंकि इसके उत्पादन में काफी ज्यादा रिसोर्सेस इस्तेमाल होते हैं जैसे इलेक्ट्रीसिटी का उपयोग होता है,वर्तमान में दुनियाभर में 1 करोड़ से भी अधिक बिटकॉइन हैं,
बिटकॉइन के मालिक सातोशी नाकामोतो हैं जो जापान के रहने वाले हैं ,
एथेरियम, रिपल, लाइटकॉइन प्रमुख अन्य क्रिप्टोकरेन्सी हैं
क्रिप्टो माइनिंग या बिटकॉइन माइनिंग का मतलब पजल्स को साल्व करके नयी बिटकॉइन बनाना होता है, इस कार्य के लिए बेहद तीव्र इंटरनेट व बहुत ही अधिक मात्रा में इलेक्ट्रीसिटी और रिसोर्सेज यूज होते हैं