Gold : नॉन-फिजिकल गोल्ड में कैसे करें निवेश, जानिए
फिनटेक प्लेटफॉर्म और बड़ी ज्वेलरी कंपनियां निवेशकों को डिजिटल सोना खरीदने की सुविधा देती हैं।
फिजिकल गोल्ड के उलट, जिसकी कीमत स्थानीय टैक्स के कारण राज्यों में अलग-अलग होती है, गोल्ड ईटीएफ सोने की करेंट कीमतों को दर्शाता है।
गोल्ड ईटीएफ सोने की करेंट कीमतों को दर्शाता है। निवेशक अपने डीमैट खाते के जरिए गोल्ड ईटीएफ में निवेश कर सकते हैं।
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड या एसजीबी गवर्मेंट सिक्योरिटीज हैं जिन्हें ग्राम सोने में दर्शाया जाता है।
निवेशकों को इश्यू प्राइस का भुगतान नकद में करना होता है और मैच्योरिटी पर बॉन्ड को नकद में ही रिडीम किया जाएगा।
गोल्ड-सेविंग फंड के तौर पर भी जाना जाता है। ये म्यूचुअल फंड गोल्ड ईटीएफ में निवेश करते हैं।
गोल्ड डेरिवेटिव्स की दो कैटेगरियां हैं, जिनका आम तौर पर इस्तेमाल किया जाता है, फॉरवर्ड और फ्यूचर्स के साथ-साथ दोनों कैटेगरियों में ऑप्शन।
Author : Akash dubey