Aadhaar : आपकी मंजूरी के बगैर नहीं इस्तेमाल किया जा सकेगा डेटा, जानें डीटेल्स
आधार यूजर्स की सिक्योरिटी को लेकर भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) लगातार काम कर रही है.
UIDAI ने कहा है कि सत्यापन करने वाली इकाइयों के लिये जरूरी है कि वे लोगों को पूरी बात बताकर उनसे आधार सत्यापन को लेकर सहमति लें.
प्राधिकरण के अनुसार जो सहमति ली जाए, उसके दस्तावेज और सत्यापन से जुड़ी चीजें नियमन के तहत निर्धारित सीमा तक ही रखी जाए.
UIDAI ने आधार यूजर्स की बेहतर सुरक्षा के लिए ऑफलाइन वेरिफिकेशन चाहने वाली संस्थाओं को एक नई गाइडलाइंस जारी किया है.
Aadhaar वेरिफिकेशन करने वाली संस्थाओं को भी फिकिजल कॉपी की जगह QR कोड से इसे वेरिफाई करने की सलाह दी है.
UIDAI ने कहा कि Aadhaar डॉक्यूमेंट्स की छेड़छाड़ ऑफलाइन वेरिफिकेशन द्वारा पता लगाया जा सकता है.
Aadhaar के साथ छेड़छाड़ एक दंडनीय अपराथ है और Aadhaar अधिनियम की धारा 35 के तहत इसमें सजा हो सकती है.
Author : Akash dubey