रेलवे ट्रैक फ्रैक्चर, बाल-बाल बची रीवा एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश रीवा

कानपुर : भारी बारिश के बीच बुधवार देर रात गोविंदपुरी रेलवे स्टेशन के पास पटरी चटक गई। इसकी जानकारी अचानक सिग्नल फेल होने से पैनल में तैनात कर्मी को हुई। खतरा भांपते हुए सिग्नल एंड टेलीकम्युनिकेशन (एसएंडटी)विभाग को सूचना दी। मामले की जांच की गई तो स्टेशन के पास ही ट्रैक में फ्रैक्चर मिला। करीब एक घंटे मरम्मत के बाद ट्रेनों का आवागमन हो सका।

दिल्ली से कानपुर के बीच रेलवे ट्रैक नॉन इंटरलॉकिंग सिग्नल प्रणाली से जुड़ा हुआ है। गोविंदपुरी रेलवे स्टेशन पर इसका कंट्रोल पैनल लगा है। बुधवार रात करीब डेढ़ बजे पैनल में तैनात टेक्नीशियन-2 राजकुमार ने देखा कि साउथ ट्रैक की लाइट अचानक लाल हो गई, जबकि इससे होकर ही दो मिनट बाद ट्रेन गुजरी थी। बिना वजह रेड सिग्नल मिलते ही राजकुमार का माथा ठनका। उन्होंने तत्काल इसकी सूचना सिग्नल एंड टेलीकम्युनिकेशन में तैनात एसआइ उमेश चंद्र को दी। उमेश चंद्र अपनी टीम के साथ ट्रैक पर निकल पड़े। रेलवे स्टेशन से कुछ आगे ही उन्हें ट्रैक में फ्रैक्चर मिला। ट्रेनों का संचालन रुकवा कर ट्रैक की मरम्मत शुरू की गई। मरम्मत में करीब एक घंटे लगे, इस बीच कानपुर-दिल्ली के बीच ट्रेनों का आवागमन प्रभावित रहा।

बाल-बाल बची रीवा एक्सप्रेस

गोविंदपुरी के पास रेलवे ट्रैक में फ्रैक्चर का पता डेढ़ बजे चला। ठीक दो मिनट बाद रीवा एक्सप्रेस दिल्ली की ओर जाने के लिए गोविंदपुरी स्टेशन पर आकर खड़ी हुई थी। अगर समय से पता नहीं चलता तो बड़ा हादसा हो सकता था। समय रहते रेल कर्मचारियों ने चटकी पटरी को पकड़ लिया।