मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में Jio कंपनी को लेकर आई बड़ी खबर, पढ़िए पूरी ..

जियो का एक और झटका! बंद किए दो सस्ते रिचार्ज प्लान, ग्राहकों में मचा हड़कंप

टेक एंड गैजेट्स

जियो ने बंद किए दो प्रीपेड रिचार्ज प्लान।

दोनों ही प्लान कम कीमत में फ्री कॉलिंग, डेटा और एसएमएस लाभ के साथ आते थे।

कंपनी ने इन दोनों ही प्लान को अपनी वेबसाइट और माय जियो एप से हटा दिया है।

नई दिल्ली: आईयूसी प्लान जारी करने के बाद रिलायंस जियो ने अब अपने दो पुराने प्रीपेड रिचार्ज प्लान बंद कर दिए हैं। कंपनी ने 19 रुपए और 52 रुपए के टैरिफ प्लान डिस्कंटीन्यू कर दिए हैं। ये दोनों ही प्लान क्रमशः एक दिन और सात दिन की वैधता के साथ आते थे। जियो ने इन प्लान को कंपनी की वेबसाइट जियो डॉट कॉम और माय जियो एप से हटा दिया है। दोनों ही प्लान को उपभोक्ताओं की छोटी जरूरतों को ध्यान में रखकर जारी किया गया था।

रिलायंस जियो के 19 रुपए के प्लान में ग्राहकों को 20 एसएमएस और 150 एमबी का डेटा मिल रहा था। वहीं इसके अतिरिक्त प्लान में फ्री कॉलिंग, लोकल और एसडीटी दोनों ही नेटवर्क के लिए मिल रही थी। इस प्लान की वैधता 1 दिनों की थी।

वहीं रिलायंस जियो के 52 रुपए के प्लान की बात करें तो इस प्रीपेड प्लान में उपभोक्ताओं को 1.05 जीबी डेटा और 20 एसएमएस की सुविधा मिल रही थी। इसकी वैधता 7 दिनों की थी और इसमें अनलिमिटेड कॉलिंग, जियो एप्स का फ्री सब्सक्रिप्शन आदि सुविधा मिल रही थी।

इन दोनों प्लान के डिस्कंटीन्यू होने के बाद जियो का सबसे सस्ता प्लान अब 98 रुपए का हो गया है। कंपनी अपना एआरपीयू सुधारने के लिए ये कदम उठा रही है। इस मामले से जुड़े एक व्यक्ति ने बताया कि इन प्लान्स को छोटी जरूरत वाले उपभोक्ताओं के लिए जारी किया गया था, लेकिन इनका इस्तेमाल बहुत कम लोग कर रहे थे। आईयूसी कॉन्फिग्रेशन लागू होने के बाद इन प्लान्स को हटा दिया गया है।

बता दें कि हाल में ही जियो ने आईयूसी प्लान जारी किया है। इस प्लान को कंपनी ने ग्राहकों पर आईयूसी चार्ज लगाने के बाद जारी किया है, जिसमें उपभोक्ताओं को 6 पैसे प्रति मिनट का चार्ज अदा करना पड़ रहा है। कंपनी ने आईयूसी प्लान्स के तौर पर प्रीपेड उपभोक्ताओं के लिए 10 रुपए, 20 रुपए, 50 रुपए और 100 रुपए के टॉप अप जारी किए हैं, जो क्रमशः 124 मिनट, 249 मिनट, 656 मिनट और 1362 मिनट के साथ आते हैं। साथ ही ग्राहकों को इनके साथ अतिरिक्त डेटा भी मिलता है।

Facebook Comments