INDvsENG 1st Test: इंग्लैंड ने जीता अपना 1000वां टेस्ट, भारत को 31 रन से हराया

खेल

बर्मिघम: भारत और इंग्लैंड के बीच बर्मिंघम के एजबेस्टन में चल रहे पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन ही इंग्लैंड ने भारत को 31 रनों से हराकर अपना 1000वां टेस्ट जीतकर इतिहास रच दिया. इंग्लैंड अब पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 1-0 से आगे हो गई है. आखिरी विकेट हार्किक पांड्या के रूप में गिरा उन्हें बेन स्टोक्स ने 31 रन के निजी स्कोर पर आउट किया. भारत की दूसरी पारी 161 रनों पर समाप्त हो गई.

टीम इंडिया पर हार का खतरा बढ़ गया है. आदिल राशिद ने ईशांत शर्मा को एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया. ईशांत शर्मा ने 11 रन बनाए. हार्दिक पांड्या 23 रन बना चुके थे और टीम इंडिया का स्कोर 154 रन हो गया था. भारत को जीत के लिए 40 रन चाहिए था लेकिन अब उसका केवल एक ही विकेट बचा था.

बेन स्टोक्स ने मैच का अपना पांचवा विकेट लेते हुए मोहम्मद शमी को शून्य पर आउट कर दिया और इंग्लैंड को जीत के करीब ला दिया. क्रीज पर हार्दिक पांड्या ही भारत की उम्मीद बचे हुए थे. विराट कोहली के आउट होने के बाद मैच अचानक इंग्लैंड के पक्ष में चला गया.

स्टोक्स विराट कोहली को एलबीडब्ल्यू आउट कर इंग्लैंड की जीत की उम्मीदें जगा दी. विराट ने इसका रीव्यू भी लिया लेकिन विराट कोहली को इसका कोई फायदा नहीं हुआ और उन्हें वापस पवेलियन जाना पड़ा. इसके पहले विराट उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में अपना 17वां अर्धशतक पूरा किया. विराट के आउट होने पर टीम इंडिया का स्कोर 141 रन हो गया था और उसे जीत के लिए 53 रनों की दरकार थी.

दिन के पहले ओवर में ही दिनेश कार्तिक का विकेट गिर गया. जेम्स एंडरसन ने उन्हेें दूसरी स्लिप पर खड़े डेविड मलान के हाथों कैच कराया. कार्तिक ने 20 रन बनाए. क्रीज पर विराट कोहली का साथ देने हार्दिक पांड्या आए हैं. भारत का स्कोर 112 हो गया है,जबकि अभी जीत के लिए उसे 82 रनों की जरूरत है.

तीसरे दिन का खेल का खत्म होने तक दोनों ही टीमों के पास जीतने का बराबर मौका था. तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड के दिए 194 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया के लड़खड़ा कर संकट में आने के बाद विराट कोहली और दिनेश कार्तिक ने भारत की हार की संभावना को टालते हुए जीत की उम्मीद कायम रखी. दिन का खेल खत्म होने पर भारत का स्कोर 5 विकेट के नुकसान पर 110 रन हो गया था. विराट कोहली 43 रन और दिनेश कार्तिक 18 रन बनाकर खेल रहे थे. भारत को अब जीत के लिए 84 रनों की जरूरत थी.

इससे पहले भारतीय गेंदबाजों ने तीसरे दिन चाय से पहले ही इंग्लैंड की पारी को 180 रनों पर सिमेट दिया, जिससे भारत को जीत के लिए 194 रनों का लक्ष्य मिला. इंग्लैंड के लिए सैम कुरैन ने सबसे ज्यादा 63 रन बनाए, जबकि जॉनी बेयरस्टॉ ने 28, डेविड मलान ने 20, आदिल राशिद ने 16, कप्तान जो रूट ने 14 और स्टुअर्ट ब्रॉड ने 11 रन बनाए. वहीं भारत के लिए ईशांत शर्मा ने पांच, अश्विन ने तीन और उमेश यादव ने दो विकेट लिए.

इंग्लैंड की पारी काफी पहले सिमट जाती अगर सैम कुरैन ने अपनी अर्धशतकीय पारी में पहले आदिल राशिद के साथ 48 रनों की और उसके बाद स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ 41 रनों की साझेदारी न की होती. क्योंकि लंच के बाद तक इंग्लैंड की दूसरी पारी का स्कोर 7 विकेट खोकर केवल 87 रन था.

पहली पारी में लगाया था विराट ने शानादर शतक
दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने पहली पारी में 13 की बढ़त लेने के बाद एक विकेट खोकर 9 रन बनाए थे. उससे पहले टीम इंडिया ने सुबह इंग्लैंड की पारी को 287 रनों पर समेटने के बाद अपनी पहली पारी में 274 रन बनाए. इसमें कप्तान विराट कोहली के शानदार 149 रन शामिल थे. एक समय भारत का स्कोर पांच विकेट पर केवल 100 रन ही था.

पहले दिन के आखिरी सत्र में वापसी करते हुए भारत के गेंदबाजों ने इंग्लैंड की पहली पारी को 9 विकेट के नुकसान पर केवल 285 रनों पर रोक दिया. इंग्लैंड की और से कप्तान जो रूट ने सबसे ज्यादा 80 रन बनाए और उनके साथ जॉनी बेयरस्टॉ ने अर्धशतक लगाते हुए 70 रनों की पारी खेली. केटन जेनिंग ने 42 रन बनाए. इसके अलावा इंग्लैंड का कोई भी बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सका. इसके बाद दूसरे दिन के दूसरे ओवर में ही इंग्लैंड केवल 2 ही रन अपने स्कोर में जोड़ सकी और पूरी टीम 287 रन पर आउट हो गई.