जनप्रतिनिधियों के गले का फांस बना एससी/एसटी एक्ट, BJP सांसद ने कहा: तलवार लाओ और काट दो मेरा गला1 min read

Madhya Pradesh Satna Sidhi

सीधी। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन करना जनप्रतिनिधियों के लिए गले की फांस बनता जा रहा है। प्रदेश में कई स्थानों पर इसका तीखा विरोध हो रहा है। सोमवार को शहडोल के विजयसोता पहुंचीं सीधी सांसद रीति पाठक को भी विरोध का सामना करना पड़ा। इस दौरान वे विरोध कर रहे लोगों पर भड़क गईं। कहा कि आप लोग तलवार ले आओ और काट लो हमारा गला।

ये है मामला
एससी/एसटी एक्ट को लेकर ग्वालियर और मुरैना से शुरू हुआ विरोध अब प्रदेश के दूसरे हिस्सों में भी देखने को मिल रहा है। सोमवार को ब्यौहारी के विजयसोता में ट्रेन के स्टापेज के शुभारंभ में पहुंची सीधी-सिंगरौली सांसद रीति पाठक को स्थानीय लोगों ने रोक लिया और एससी/एसटी एक्ट को लेकर नारेबाजी करने लगे। सांसद ने पहले तो विरोध कर रहे लोगों को समझाने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि विरोध करने का भी तरीका होता है, लेकिन वहां पहुंचे लोगों ने कहा कि यदि आप संसद में हमारी आवाज नहीं उठा सकतीं तो आपके वहां बैठने से फायदा क्या है?

सीधी सांसद का वीडियो वायरल
लोगों ने कहा कि हम लोगों के साथ गलत हुआ है, आप संसद में हमारी बात नहीं उठा सकीं तो आप हमारे विरोध प्रदर्शन में शामिल होइए। सांसद ने विरोध करने के तरीके पर भी सवाल उठाया। विरोध बढ़ता देख सांसद रीति पाठक भड़क गईं। उन्होंने पहले विरोध की अंगुआई कर रहे व्यक्ति का नाम पूछा और कहा कि राजपूत हो, तलवार ले आओ और मेरा गला काट दो। इसे पूरे घटनाक्रम को किसी ने मोबाइल में रिकॉर्ड कर वीडियो वायरल कर दिया।

मेरे अकेले के विरोध से कुछ नहीं होगा…
दरअसल, सोमवार को सांसद ब्यौहारी के विजय सोता स्टेशन में शक्ति पुंज एक्सप्रेस के स्टॉपेज के स्वागत में गई थीं। इसी दौरान सांसद को स्थानीय अशोक सिंह के साथ अन्य लोगों ने रोक लिया। हालांकि वीडियो में बार- बार सांसद स्थानीय लोगों से कह रही हैं कि मेरे अकेले के विरोध से कुछ नहीं होगा। संवैधानिक स्तर पर एक प्रक्रिया के तहत सब कुछ किया जा रहा है।

यह सामान्य घटना है। मैंने यही कहा है, हमारी सरकार किसी से अन्याय नहीं किया, न ही आने वाले समय में करेगी। अभी तो इस मामले में कोई निर्णय भी नहीं आया है। इसलिए सभी सद्भाव का परिचय दें। उत्तेजित होने की आवश्यकता नहीं है।
रीति पाठक, सीधी सांसद

Facebook Comments