रीवा में ‘भारत बंद’ का मिलाजुला असर, कांग्रेस ने मोदी सरकार पर साधा निशाना1 min read

Rewa

रीवा। आज सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक कांग्रेस ने मंहगाई के विरोध में भारत बंद का आह्वान किया था। जिसमें रीवा में भारत बंद का मिला जुला असर दिखाई दिया।

आकस्मिक सेवाओं से जुड़े संस्थानों को इससे मुक्त रखा गया था। जिनमें अस्पताल, दवाखाना एवं एंबुलेंस सेवाएं मौजूद हैं। रीवा में कांग्रेस एवं सहयोगी दलों के भारत बंद का मिला जुला असर दिखाई दिया, इस दौरान जिले भर में पुलिस बस चप्पे चप्पे पर मौजूद रहा एवं ड्रोन कैमरा, CCTV से निगरानी रखी जा रही थी। हांलांकि सोमवार को रीवा के अधिकांश मार्केट बंद रहते हैं। बावजूद जिले के अन्य स्थानों में बंद का माहौल दिखा। कांग्रेस नेताओं ने शिल्पी प्लाजा में मोदी सरकार के खिलाफ नारे लगाएं।

कांग्रेस का आरोप है की मोदी सरकार जानबूझकर पेट्रोलियम पदार्थों को GST के दायरे में नहीं ला रही है। क्रूड आयल का रेट भी काफी कम है बावजूद मोदी सरकार जनता को 88 रूपए लीटर पेट्रोल बेंचकर ऊँचे तबके के व्यापारियों को फायदा पहुंचा रही है, वहीँ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी वैट कम करने को तैयार नहीं है। जबकि भारत बंद के डर से राजस्थान सरकार ने 4 फीसद वैट पेट्रोल डीजल पर कम कर दिया है। 

इस दौरान गुढ़ विधायक सुंदरलाल तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा, शहर कांग्रेस अध्यक्ष गुरमीत सिंह मंगू, राजेन्द्र शर्मा, कविता पाण्डेय, भगत शुक्ला, स्वतंत्र शर्मा, तनुज त्रिपाठी समेत सैकड़ों कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहें।

ये रहें बंद 

  1. जिले भर के सभी पेट्रोल पम्प 
  2. अधिकाँश प्राइवेट स्कूलें 
  3. यात्री वाहन 
  4. शिल्पी प्लाजा 
  5. फोर्ट रोड 
  6. रेवांचल बस स्टैंड 
  7. न्यू बस स्टैंड 

सपाक्स एवं व्यापारी संघ ने किया विरोध
कांग्रेस के भारत बंद का सपाक्स एवं व्यापारी संघ ने विरोध किया। सपाक्स का कहना है कि कांग्रेस अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए मंहगाई की आड़ लेकर भारत बंद करवा रही है। जबकि 6 सितंबर के एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ भारत बंद के दौरान किसी भी कांग्रेस एवं भाजपा के नेताओं ने समर्थन नहीं दिया था।

Facebook Comments