रीवा : बिजली बिल माफ कराने उपभोक्ता परेशान, बिजली विभाग के कंट्रोलरूम-मेंटीनेंस कक्ष में कुर्सी-टेबल पर पैर चढ़ाकर बैठे कर्मचारी1 min read

Rewa

रीवा: सरकार की बहुप्रचारित सरल बिजली बिल माफी योजना के तहत विभागीय अधिकारी भले शिविर लगाकर और डोर टू डोर आवेदन ले रहे हों लेकिन बिजली कंपनी के कार्यालय में उपभोक्ता बिल माफ कराने और सुधरवाने के लिए पसीना बहा रहे है। शनिवार दोपहर कंट्रोलरूम व मेंटीनेंस कक्ष में उपभोक्ता आवेदन लेकर परेशान रहे। हैरान करने वाली बात है कि आइएसओ प्रमाणित कार्यालय में बेहतर काम काम की बात तो छोडि़ए, कर्मचारी कुर्सी-टेबल पर पैर चढ़ाए गपशप में व्यस्त रहे।

कंट्रोलरूम की खिडक़ी पर पहुंचे कुशमेश ने कहा, बिल माफ कर दीजिए
शनिवार दोपहर 2.10 बजे शहर के पोखरी टोला निवासी कुशमेश प्रसाद साकेत शहर संभाग कार्यालय में आवेदन जमा करने पहुंचे। जानकारी के लिए मेंटीनेंस कार्यालय पहुंच गए। गेट पर कर्मचारी बेंच पर पैर चढ़ाकर बैठा मिला। पूछने पर जवाब तक नहीं दिया और वाट्सएप पर व्यस्त रहा। बाद में आवेदन लेकर कंट्रोलरूम की खिडक़ी पर पहुंचे कुशमेश ने कहा, बिल माफ कर दीजिए। कर्मचारी ने राशनकार्ड लाने को कहा तो उपभोक्ता ने बताया कि आवेदन के साथ बिजली का बिल, आधार कार्ड, समग्र आइडी, मजदूरी कार्ड, खाद्यान्न पर्ची की छाया प्रति लगी है। इससे पहले दो बार शिविर में आवेदन दिया है। इसके बावजूद उसे बैरंग वापस कर दिया। इस बीच दो महिलाएं (सुशीला व शांति देवी) आवेदन लेकर मेंटीनेंस कक्ष के गेट पर पहुंची। महिलाएं कर्मचारी का दृश्य देख लौट गईं। उपभोक्ता बाहर खिडक़ी पर आवेदन जमा करने के लिए परेशान रहे।

एई को 15 बार लगाया फोन, फिर भी नहीं सुधारी बिजली
शहर के वार्ड-15 रतरहा में खंभे से बिजली आपूर्ति ठप रही। उपभोक्ता हरिनाथ पटेल ने सूचना शुक्रवार शाम 5 बजे कंट्रोलरूम को दी, जिसकी शिकायत संख्या 1284 है। शनिवार को दिनभर एई और कंट्रोलरूम को 15 बार फोन किया, लेकिन कर्मचारी नहीं पहुंचे। शनिवार को शाम एक कर्मचारी उपभोक्ता के मोबाइल पर फोन करके कहा, पैसे दीजिए, तो पोल पर चढूं नहीं तो नहीं आएंगे। यह कहकर फोन काट दिया। उपभोक्ता ने बताया कि महिलाओं ने व्रत रखा था। बिजली आपूर्ति ठप होने से घर में पेयजल की समस्या खड़ी हो गई।

गड्ढे से परेशान कर्मचारी-उपभोक्ता
बिजली विभाग कार्यालय परिसर में जगह-जगह गड्ढे हो गए हैं। जिसको लेकर उपभोक्ता और कर्मचारी परेशान हैं। कई उपभोक्ता गड्ढे में फंसकर चोटिल हो गए। कर्मचारियों ने बताया कि कई बार अधिकारियों से गड्ढे पाटने के लिए कहा गया, इसके बाद भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

बोले उपभोक्ता…
बिल माफी के लिए शिविर में आवेदन जमा किया था लेकिन कुछ नहीं हुआ। डेढ़ माह में अब तक दो बार आवेदन जमा कर चुके। फिर से आवेदन जमा करने के लिए परेशान हूं।
कुशमेश प्रसाद साकेत

बिजली बिल माफी के लिए शिविर में आवेदन दिया था। इसके बाद भी बिल आ गया। बिल मेरे पिता मथुरा प्रसाद यादव के नाम से है। दोबारा बिल माफी का आवेदन जमा करने आए हैं।
राहुल यादव

वर्जन…
बिल माफी के लिए शिविर और डोर टू डोर आवेदन लिए जा रहे हैं। कार्यालय में इस तरह से उपभोक्ता को वापस किया गया। हमारे संज्ञान में नहीं है। अगर ऐसा कोई उपभोक्ता है जिसका आवेदन नहीं लिया जा रहा है तो वह सीधे मुझसे संपर्क करे।
बीके शुक्ला, डीई शहर संभाग

Facebook Comments