रीवा : उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल के विकास सहित देखे पूरे मध्यप्रदेश की लिस्ट, जानिये किसने कितना काम किया1 min read

Rewa

भोपाल. प्रदेश की सियासत में पिछले पांच साल में कई मुद्दे उछले। कुछ के हल निकले और कुछ वक्त के साथ गुम हो गए। अरसे बाद किसान राजनीति के केंद्र में आया। फसल बर्बाद होने पर पर्याप्त मुआवजा और फसलों के वाजिब दाम न मिलने का मामला लगातार गर्माता रहा।

वहीं, किसान आंदोलन के दौरान जून 2017 में हुए मंदसौर गोलीकांड ने इन मुद्दों को और हवा दे दी। भाजपा सरकार ने किसानों में बढ़ते असंतोष को दबाने के लिए भावांतर और कृषक प्रोत्साहन जैसी योजनाएं लागू कीं। उधर, कांग्रेस ने भी इस मुद्दे को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंदसौर के दो दौरे किए।

व्यापमं घोटाला सड़क से लेकर सदन तक गूंजा। व्यापमं घोटाले में पहले एसआइटी और फिर सीबीआइ से जांच कराकर सरकार ने पारदर्शिता की बात कही तो कांग्रेस ने मुख्यमंत्री से लेकर सरकार के कई नुमाइंदों तक पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। प्रदेश के अन्य संभागों में अवैध उत्खनन, रोजगार, पलायन और पदोन्नति में आरक्षण भी पिछले साल के अहम मुद्दे रहे।

** संभागवार कौन से मुद्दे छाए रहे
उज्जैन : किसान आंदोलन
भाजपा – पार्टी किसानों को फसल बीमा की राशि देने को लेकर बैकफुट पर रही। जबकि, यह मुद्दा भाजपा के विधायक भी सरकारी बैठकों में उठा चुके हैं। हालांकि, सरकार ने मंदसौर गोलीकांड में मारे गए किसानों के परिजनों को एक करोड़ रुपए मुआवजे की घोषणा की।
कांग्रेस – फसल बीमा को लेकर चार बार बड़े प्रदर्शन किए। कलेक्टर और संभागायुक्त कार्यालय का घेराव कर बीमा वितरण की राशि की जांच के लिए टीम बनाने की मांग की।
– सबसे बड़ा काम – सिंहस्थ का आयोजन
भाजपा सरकार ने विश्व के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन सिंहस्थ महाकुंभ 2016 का आयोजन किया। इसके लिए बड़े स्तर पर विकास कार्य किए गए। कांग्रेस ने सिंहस्थ में किए गए कार्यों में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। कांग्रेस इसे चुनावी मुद्दा भी बना रही है।

भाजपा – खनिज मंत्री राजेंद्र शुक्ला ने रीवा शहर में कई काम करा कर विकास का दावा किया। पार्टी ने अवैध खनन की बात कभी स्वीकार नहीं की।
कांग्रेस – विधायक सुंदरलाल तिवारी और सुखेंद्र सिंह बन्ना ने इन मुद्दों पर सरकार को सदन से लेकर सड़क तक घेरा।
सबसे बड़ा काम – विश्व का सबसे बड़ा सोलर पॉवर प्लांट
भाजपा सरकार ने सबसे बड़ा सोलर पॉवर प्लांट स्थापित किया गया। मुकुंदपुर टाइगर सफारी, बसामन मामा गो-अभ्यारण्य बनाया और सतना को मेडिकल कॉलेज की सौगात दी। कांग्रेस ने रीवा बस स्टैंड के नाम पर निजी हाथों में जमीन देने का मुद्दा उठाया। कांग्रेस खनिज मंत्री के क्षेत्र में ही अवैध उत्खनन को चुनावी मुद्दा बनाएगी।

जबलपुर : स्वास्थ्य और शिक्षा
भाजपा- प्रदेश अध्यक्ष और जबलपुर सांसद राकेश सिंह ने स्वास्थ्य सुविधा विस्तार का दावा किया। मेडिकल यूनिवर्सिटी खुली। कैंसर रिसर्च सेंटर जल्द शुरू होगा।
कांग्रेस – पार्टी कहेगी कि यूपीए सरकार में आइआइआइटी लेकर आए। भाजपा की घोषणा कैंसर रिसर्च संस्थान अभी भी कागजों में हैं। शिक्षा और रोजगार के लिए युवा कर रहे पलायन। इसे मुद्दा बनाएगी।
सबसे बड़ा काम – कैंसर रिसर्च इंस्टीट्यूट
भाजपा जबलपुर संभाग में नए मेडिकल कॉलेज खोलने, जबलपुर मेडिकल कॉलेज में सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कैंसर रिसर्च इंस्टीट्यूट की स्थापना का श्रेय ले रही है। कांग्रेस शिक्षा और रोजगार के लिए पलायन को चुनावी मुद्दा बनाएगी। नर्मदा में रेत का अवैध उत्खनन और बढ़ते प्रदूषण पर भी फोकस कर रही है।

भोपाल : व्यापमं और किसान
भाजपा- भोपाल में प्रदेशस्तरीय मुद्दे गूंजते रहे। उच्च शिक्षा और रोजगार के लिए राजधानी से प्रतिभा का पलायन, सीहोर-रायसेन में अवैध उत्खनन के साथ ही राजगढ़- विदिशा में किसानों की समस्याएं सामने आईं। भाजपा व्यापमं घोटाले की निष्पक्ष सीबीआइ जांच का दावा कर रही है। किसानों को भावांतर और प्रोत्साहन योजना से मनाएगी।
कांग्रेस – चुनाव में व्यापमं घोटाले को फिर जनता के बीच ले जाएगी। किसानों को समय पर खाद-बीज नहीं मिलने का मुद्दा उठाएगी। पिछले 10 वर्षों से मेट्रो की बात, लेकिन जमीन पर न आने का मुद्दा भी उठाएगी।
सबसे बड़ा काम- दूसरा स्वच्छ शहर और स्मार्ट सिटी
भोपाल को स्मार्ट सिटी और देश के दूसरे सबसे स्वच्छ शहर की सौगात मिली। मेट्रो प्रोजेक्ट मंजूर हुआ। विदिशा में रेलवे का कारखाना, मेडिकल कॉलेज की घोषणा हुई। भाजपा इनका श्रेय लेगी। कांग्रेस मेट्रो प्रोजेक्ट के आगे नहीं बढ़ पाने को मुद्दा बनाएगी।

सागर संभाग : सूखा, पलायन और अवैध खनन
भाजपा – बुंदेलखंड में सिंचाई का रकबा बढ़ाने, नए उद्योग और शहरी विकास को भुनाने की तैयारी में है। हालांकि, यहां सूखा और पलायन की समस्या के साथ ही सिंचाई के साधनों की कमी है।
कांग्रेस – बुंदेलखंड पैकेज में भ्रष्टाचार और पलायन को मुद्दा बनाएगी। यूपीए शासनकाल में एनटीपीसी प्लांट का काम शुरू नहीं होने को भी उठाएगी।
सबसे बड़ा काम – सागर में बीना नदी परियोजना का कार्य जमीन पर आया। टीकमगढ़ में निवाड़ी को जिला बनाने की घोषणा सरकार ने की। छतरपुर को मेडिकल कॉलेज मिला है। भाजपा इनका श्रेय ले रही है।

होशंगाबाद संभाग : नर्मदा में अवैध खनन
भाजपा – नर्मदा नदी में अवैध उत्खनन पर चुप है। नर्मदा किनारे किए गए पौधरोपण को चुनावी मुद्दा बनाएगी। साथ ही नर्मदा संरक्षण के कार्यों को भुनाएगी।
कांग्रेस – अवैध उत्खनन को सबसे बड़े मुद्दे के रूप में उठाएगी। वह भाजपा नेताओं पर अवैध उत्खनन में शामिल होने के आरोप लगातार लगाती रही है। शिक्षा संस्थान और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को कमी को भी मुद्दा बनाएगी।

ग्वालियर-चंबल संभाग : अवैध खनन और अवैध कॉलोनियां
भाजपा- ग्वालियर शहर को स्मार्ट सिटी में शामिल किए जाने, चंबल को दस्यु समस्या से मुक्त कराने, चंबल एक्सप्रेस-वे, रेलवे ओवरब्रिज को अपनी उपलब्धि बता कर वोट मांगेगी।
कांग्रेस – पत्थर पटिया और रेत के अवैध उत्खनन के साथ ही इस अंचल का विकास ना होने को मुद्दा बनाएगी। दो अप्रैल को दलित संगठनों के बंद के दौरान हुई हिंसा को भी मुद्दा बनाएगी।

इंदौर संभाग : एक तरफ कॉर्पोरेट कैपिटल दूसरी तरफ आदिवासी देहात
भाजपा – औद्योगिक विकास और स्वच्छता की रैंकिंग में अव्वल नंबर, इंदौर-मनमाड़ रेल लाइन को चुनाव में भुनाएगी। मेट्रो सिटी का श्रेय भी ले रही है।
कांग्रेस – आदिवासियों की मांगें, पेयजल संकट, अवैध शराब और किसानों की बदहाली को चुनावी मुद्दा बनाएगी। सरदार सरोवर डूब का मामला, एमवाय हॉस्पिटल की बदहाली पर भी फोकस करेगी।
सबसे बड़ा काम – देश का सबसे स्वच्छ शहर बना इंदौर, प्रदेश के 80 प्रतिशत उद्योग इंदौर-देवास-पीथमपुर में लगे। पांच साल में 50 हजार करोड़ का निवेश हुआ, आइटी हब के रूप में देश में इंदौर-पीथमपुर ने जगह बनाई।

लोग भले मेरी आलोचना करें, लेकिन मैंने नर्मदा संरक्षण के विषय को उठाया है। उसके बाद से अवैध उत्खनन की बात हो रही है। हमने ग्राम पंचायतों के हाथों में रेत उत्खनन का काम देकर अवैध उत्खनन पर लगाम लगाई है। सिंचाई में जितना काम राजा, नवाब, अंग्रेज और कांगे्रस मिलकर नहीं कर सके उससे छह गुना ज्यादा रकबा भाजपा सरकार ने 15 वर्षों में किया। ेआज 40 लाख हेक्टेयर में सिंचाई हो रही है।
– शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मप्र

किसान आत्महत्या, व्यापमं, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, महिला अपराध और अवैध उत्खनन जैसे प्रमुख मुद्दे रहे हैं। पिछले पांच साल में सरकार से हर वर्ग परेशान रहा है। केन्द्र सरकार के नोटबंदी और जीएसटी ने आम आदमी की कमर तोड़कर रख दी है। इन सारे मुद्दों को कांग्रेस चुनाव में प्रमुखता से उठा रही है।
– कमलनाथ, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

Facebook Comments