विंध्य के ड्रीम प्रोजेक्ट रीवा-सिंगरौली रेल लाइन को लेकर आई बड़ी खबर, रीवा से गोविन्दगढ़ चलेगी ट्रेन1 min read

Rewa

रीवा। विंध्य के ड्रीम प्रोजेक्ट रीवा-सिंगरौली रेल लाइन का इंतजार और बढ़ गया है। पहले चरण का काम पूरा नहीं होने से अब लक्ष्य दिसम्बर २०२२ तक पूरा होने की उम्मीद नहीं के बराबर है।
रीवा से गोविंदगढ़ तक पहले दिसम्बर 2018 तक ट्रेन संचालित करने का लक्ष्य दिया गया था लेकिन अधूरे काम के कारण 2020 तक ट्रेन चलाने का लक्ष्य रेलवे ने निर्धारित किया है।

रीवा से सिंगरौली रेल लाइन में 2010 में काम शुरू हुआ था। प्रथम चरण में 2018 में रीवा-गोविंदगढ़ के बीच ट्रेन चलाने का लक्ष्य दिया गया था लेकिन मुआवजा वितरण, ओवरब्रीज, विद्युत पोल शिफ्टिंग और अर्थ वर्क के काम में ही 8 साल से अधिक समय बीत गया है। इन आठ सालों में रीवा रेलवे स्टेशन से आगे अभी एक किलोमीटर ट्रैक नहीं बिछ पाया है। इसके कारण अधिकारी अब 2020 में रीवा से गोविंदगढ़ तक ट्रेन दौडऩे की बात कह रहे है। इस संबंध में अधिकारियों ने रेल मंत्रालय को प्रस्ताव भी भेज दिया है।

सीधी-सिंगरौली का भूमि अधिग्रहण अधूरा
रीवा से सिंगरौली रेल प्रोजेक्ट के पहले चरण में जहां रीवा-गोविंदगढ़ के बीच अर्थवर्क का काम पूर्णता की ओर है वहीं अभी सीधी-सिंगरौली के बीच भूमि अधिग्रहण पूरा नहीं हो पाया है। द्वितीय चरण में रीवा-सीधी के जमीन का अधिग्रहण चल रहा है। सीधी से सिंगरौली के बीच में अवार्ड पारित होना शेष है।
2022में रखा था लक्ष्य
रीवा से सिगंरौली 164 किलोमीटर रेल लाइन प्रोजेक्ट 2220.72 करोड़ से पूरा होना है। इसके लिए रेलवे ने 2022 तक समय निर्धारित किया है लेकिन प्रोजेक्ट की गति को देखते हुए अब 2025 से पहले पूरा होने की उम्मीद बहुत कम है। इसमें 11 रेलवे स्टेशन, 14टनल एवं 124पुलों का निर्माण किया जाना है। इनमें सबसे लंबी 4 किलोमीटर की टनल छुहिया घाटी में बनाई जा रही है, जिसका काम प्रांरभ हो गया है।

रीवा मिर्जापुर की अटकी स्वीकृत
रेलवे ने रीवा से मिर्जापुर रेलवे लाइन का सर्वे पूरा करा लिया है लेकिन रेल लाइन की मंजूरी नहीं मिली है। इस मुद्दे को लेकर सांसद ने लोकसभा में उठाया है इससे अब इसकी जल्द मंजूरी की उम्मीद लगाई जा रही है।

Facebook Comments