बड़ी खबर : रीवा में 1 साल से पडोसी महिलाये करा रही थी किशोरी का शारीरिक शोषण, फिर हुआ ये

Rewa

रीवा : जिले में महिलाओं और बच्चियों के साथ आपराधिक घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। हद तो तब हो गई, जब महिलाएं ही एक नाबालिग बच्ची का शारीरिक शोषण कराए जाने के मामले में शामिल मिली हैं। तकरीबन 1 साल से पड़ोस में रहने वाली दो महिलाओं द्वारा 13 वर्षीय किशोरी के साथ शारीरिक शोषण कराए जाने का मामला प्रकाश में आया है। जिसकी शिकायत पीडि़त किशोरी ने पुलिस अधीक्षक से की है। शुक्रवार को एसपी कार्यालय पहुंची पीडि़त किशोरी ने एसपी से मिलकर अपने साथ हुई घटना को बयां किया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए किशोरी की शिकायत पर महिला थाने में अपराध पंजीबद्ध किए जाने के निर्देश दिए हैं और मामले की जांच करा आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की बात कही है। घटना शहर के सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत घोघर मोहल्ले की है। घटना के संबंध में पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंची पीडि़त किशोरी ने बताया कि वह अपने परिवार के साथ घोघर मोहल्ले में किराए के मकान में रहती है। जिसके पड़ोस में रहने वाली सलीमुन व शहनाज मंसूरी नाम की दो महिलाएं उसे बहलाफुसलाकर ले जाती थीं और अयूब अंसारी नामक युवक को सौंप देती थीं। जिसके द्वारा तकरीबन 1 साल तक उसका शारीरिक शोषण किया गया।

किशोरी द्वारा जब इसका विरोध किया गया तो आरोपी ने उसे और उसकी मां की हत्या कर देने की धमकी दी। इतना ही नहीं किशोरी जब गर्भवती हुई तो उसे आरोपी ने शादी करने का भी प्रलोभन दिया और महिलाओं के साथ मिलकर शहर के करहिया स्थित लीनिक में गर्भपात करा दिया गया। जिसके बाद आरोपी व महिलाएं अपने वादे से मुकर गईं। शारीरिक शोषण का शिकार हुई किशोरी जब मामले की शिकायत लेकर सिटी कोतवाली थाना पहुंची तो पुलिस ने उसे अपनी स्वेच्छा से गर्भपात कराने की बात कहकर वापस लौटा दिया, लेकिन किशोरी ने हार नहीं मानी और अपने साथ हुए अन्याय के खिलाफ लडऩे का मन बना लिया। जिसके लिए वह शुकुवार को पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंची और एसपी से मुलाकात कर अपने साथ हुई घटना की आपबीती सुनाई। पुलिस अधीक्षक ने भी किशोरी की पूरी बात सुनने के बाद मामला गंभीर पाया और महिला थाना पुलिस को किशोरी की शिकायत पर अपराध पंजीबद्ध कर मामले की जांच किए जाने कि निर्देश दिए हैं।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •