इन ट्रेनों में बन्दूक के दम में मिलती है सीट

Jabalpur Katni Rewa Satna

जबलपुर. गर्मी की छुट्टियां खत्म होनेवाली हैं और स्कूल खुलने का समय आ चुका है जिसके कारण ट्रेनों में जबर्दस्त भीड़ चल रही है। विशेषकर यूपी-बिहार की ट्रेनों में तो घुसने तक की जगह नहीं मिल पा रही है। ट्रेनों में यात्री ऐसे ठूंसे हुए हैं कि पैर रखने की जगह भी नहीं है। ऐसे में बर्थ को लेकर रोज विवाद हो रहे हैं। ये विवाद हिंसक हो रहे हैं और यहां तक कि हथियार निकल आते हैं।



पवन एक्सप्रेस मेें यात्री पर तानी बंदूक

दरभंगा से एलटीटी जा रही अप पवन एक्सप्रेस में कटनी और जबलपुर स्टेशन के बीच स्लीपर कोच में सीट पर बैठने को लेकर दो यात्रियों में विवाद हो गया। विवाद बढऩे पर यात्री ने सीट पर बैठने वाले यात्री पर बंदूक तान दी। इस सम्बंध में जानकारी मांगने पर जीआरपी ने एेसी किसी भी घटना से इनकार कर दिया। जानकारी के अनुसार एलटीटी जा रही पवन एक्सप्रेस में कटनी से सवार हुआ एक यात्री स्लीपर कोच में एक बर्थ पर बैठ गया। जिस यात्री की बर्थ थी, उसने उसे उठने को कहा। इससे दोनों में कहा-सुनी होने लगी। यात्री के बर्थ से न उठने पर दूसरे यात्री ने बंदूक निकाल ली। इससे बर्थ पर बैठने वाला यात्री दूसरे कोच में भाग गया। इस सम्बंध में जानकारी लेने पर आरपीएफ ने घटना से इनकार कर दिया।

जीआरपी जबलपुर के प्रभारी थाना प्रभारी यदुवंश मिश्रा ने साफ कहा कि हमें इस तरह की कोई शिकायत नहीं मिली। उन्होंने बताया कि पवन एक्सप्रेस में बंदूक ताने जाने की घटना की जानकारी नहीं है। इस संबंध में किसी तरह की शिकायत भी नहीं मिली है।

टे्रन में भूल गया ट्रॉली बैग
इधर रीवा-जबलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस में सवार एक यात्री टे्रन में ट्रॉली बैग भूल गया। उसका पता लगाकर आरपीएफ ने बैग लौटा दिया है। बैग में १८ हजार रुपए का मोबाइल सहित लगभग २८ हजार का सामान था। आरपीएफ से मिली जानकारी के अनुसार रीवा निवासी परिवेश सिंह बघेल २२१९० अप रीवा-जबलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस से जबलपुर आया था। वह टे्रन के कोच डी-५ में सवार था। जबलपुर पहुंचने के बाद वह ट्रॉली बैग कोच में ही भूल गया। रैक खाली होने के बाद चैकिंग के दौरान उक्त ट्रॉली बैग आरपीएफ एसआई एमपी मिश्रा, राजेन्द्र सिंह बघेल व शीतल सिंह को मिला, जो बैग आरपीएफ पोस्ट ले आए। इसके बाद परिवेश का पता लगाकर उसे ट्रॉली बैग लौटाया गया।


Facebook Comments