रीवा : 16.5 करोड़ से होगा गाँधी मेमोरियल हॉस्पिटल का कायाकल्प1 min read

Rewa Vindhya

रीवा। चुनावी साल में मप्र सरकार के उद्योग मंत्री ने रविवार को जिलावासियों को विकास का झुनझुना फिर थमाया है। मेडिकल कालेज में आयोजित पत्रकारवार्ता में मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने जिले के सबसे पुराने महात्मा गांधी मेमोरियल अस्पताल का कायाकल्प कराने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि 16.5 करोड़ की लागत से जीएमच अस्पताल को नया लुक दिया जायेगा।

इसे जिले वासियों के लिए बड़ी उपलब्धी करार देते हुए मंत्री शुक्ल ने कहा कि सुपर स्पेशिलिटी के बगल में पुराना अस्पताल दिखना अच्छा नहीं लगता। इसलिए रेनोवेशन के लिए आरईसी सीएसआर से 10.96 करोड़ और सोलर प्लांट (आरयूएसएम) से 5.50 करोड़ रुपए मिले हैं।

मंत्री शुक्ल ने बताया कि जीएमएच के रेनोवेशन कार्य भी सुपर स्पेशिलिटी बनाने वाली नोयडा की एचएएससी कंपनी को दिया गया है। उन्होंने बताया कि जीएमएच के सभी वार्डों, आपरेशन थिएटरों को पूर्णत: एसी किया जायेगा। बिजली व सेनेट्री कार्य के साथ ही सीलिंग, शौचालय, सीवरेज व ड्रेनेज स्स्टिम का किया जाएगा। साथ ही सुंदर लान बनाया जायेगा।

इस अवसर पर मंत्री राजेंद्र शुक्ल ने सुपर स्पेशिएलिटी का निर्माण कार्य जुलाई महीने तक पूरा होने और शुभारम्भ की भी बात कही। लेकिन पत्रकारों के सवाल पर वह यह बताने में असफल रहे कि जब निर्माण एजेंसी निधारित समय से 12 महीने देरी से 80 फीसदी काम किया है तो शेष 20 प्रतिशत काम एक महीने कैसे पूरा हो जाएगा। वह भी अभी तक न मशीनी उपकरणों की खरीदी हो पायी है न ही मेडिकल स्टाफ की ही नियुक्ति हो पायी है।

इस सवाल के जबाव के लिए उन्होंने डीन मेडिकल कालेज से स्टाफ नियुक्ति के संबंध में जानकारी देने को कहा। डीन द्वारा बताया गया कि डाटरों की भर्ती के लिए एमडी कोर्स के रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं जल्द ही आने वाला है। पैरा मेडिकल स्टाफ की नियुक्ति भी जल्द ही की जाएगी। इससे साफ है कि अभी जिल वासियों को सुपर स्पेशिलिटी की सुविधा मिलने में कई माह लग जायेगा। यह अलग बात है कि आचार संहिता के डर से इसे पहले ही शुभारंभ कर दिया गया जाएगा। इस सवाल पर कि 800 बिस्तरों वाले एसजीएम अस्पताल में मरीजों को गर्मी में परेशान होने व घर से पंखा कूलर लाने की बात पर वह अनजान बनते हुए डीन से प्रस्ताव देने की बात कही। उल्लेखनीय है कि इस मसले को लेकर अभी हाल में विपक्ष ने भी सवाल खड़े किए थे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.