रीवा : कांप्लेस मालिकों, ननि और पुलिस कर्मियों के खिलाफ अपराध दर्ज... 1

रीवा : कांप्लेस मालिकों, ननि और पुलिस कर्मियों के खिलाफ अपराध दर्ज…

Rewa

निजी स्वामित्व की लगी जमीन पर लगे गेट को साजिश के तहत उखाड़ कर ले जाने और विरोध करने पर रहवासियों को धमकी देने के मामले में रहवासियों के द्वारा थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी। पुलिस के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने पर पीडि़तों ने पुलिस अधीक्षक पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा था, लेकिन यहां से भी कोई कार्रवाई नहीं की गई, तो पीडि़त न्यायालय की शरण में पहुंच गए। न्यायालय ने सुनवाई करते हुए कांप्लेस के मालिकों, नगर निगम के कर्मचारियों और पुलिसकर्मियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया है। अपराधिक मामला दर्ज होने के बाद नगर निगम के कर्मचारियों ने अग्रिम जमानत के लिए आवेदन किया था, जिसे न्यायालय ने निरस्त कर दिया। मामले के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार ढेकहा मुहल्ला स्थित आराजी नंबर 52 में रितेश गुप्ता का आवासी मकान बना हुआ है। मकान के एक तरफ मुय मार्ग बनकुइयां जाता है, जो आगे से बीड़ा-सेमरिया की ओर जाता है। उपरोक्त मुय मार्ग से उार की ओर एक 15 फीट चौड़ा रास्ता है जो रितेश गुप्ता के आवासीय मकान तक जाता है। या है मामला खसरा क्रमांक 52 के पूर्व भूमिस्वामी प्रमोद भरद्वाज थे, जिन्होंने उक्त भूमि में रितेश गुप्ता सहित अन्य चार व्यक्तियों को रिहायसी प्रयोजन हेतु पृथक-पृथक प्लॉट विक्रय किया था और जिनके द्वारा प्लाट क्रय किये गए थे, उन व्यक्तियों के आवासीय प्लाट तक पहुंचने हेतु 15 फीट चौड़ा रास्ता उपलध कराया गया था। 15 फीट चौड़ा रास्ता सार्वजनिक नही है। राजस्व रिकार्ड में उक्त मार्ग से संबंधित भूमि का स्वामित्व प्रमोद भारद्वाज के नाम दर्ज है। प्रमोद भारद्वाज के द्वारा एक गेट भी लगाया गया था।

जमीन क्रय करने के बाद रितेश गुप्ता व चार अन्य लोगों ने अपने निजी पूंजी से उपरोक्त 15 फीट चौड़े रास्ते को आरसीसी करवाया और मकानों की सुरक्षा हेतु पहले से लगे हुए गेट को बदलकर एक लोहे का गेट लगाया था। ये हैं आरोपी घटनास्थल पर आशीर्वाद कंस्ट्रशन एंड डेवलपर्स के राजेश तिवारी, बृजेंद्र तिवारी, चंद्रभान मिश्रा, अभय प्रकाश अग्निहोत्री एवं अनिल मिश्रा आदि जो पार्टनर हैं, साजिश रच कर तत्कालीन सिविल लाइन थाना में पदस्थ उपनिरीक्षक अभिषेक उपाध्याय, शरद सिंह आरक्षक थाना सिविल लाइन, श्यामलाल पाठक आरक्षक थाना सिविल लाइन, आनंद सिंह सहायक यंत्री नगर पालिक निगम एवं अनंत पाल सिंह नगर पालिक निगम सभी एक राय होकर थाना सिविल लाइन के पुलिसकर्मी आशीर्वाद प्लाजा मालिकों से अनुचित लाभ प्राप्त कर प्लाजा मालिक को लाभ पहुंचाने के लिए रितेश गुप्ता एवं अन्य को क्षति पहुंचाने के उद्देश्य बगैर किसी सक्षम अधिकारी के आदेश एवं बगैर किसी अनुमति के 30 जुलाई 17 को उक्त गेट को तोडऩे के लिए दोपहर 2 बजे जेसीबी मशीन क्रमांक एमपी 17 डी 0457 को लेकर पहुंचे और मशीन से निर्माणाधीन गेट को तोड़कर नष्ट कर दिया। मौके पर उपस्थित लोगों ने मना करने पर उन्हें भी भला बुरा कहा था व डरा धमका रहे थे। गेट तोडऩे के बाद उसे प्लाजा के पार्टनर, नगर पालिक निगम के कर्मचारी एवं थाना सिविल लाइन घटना के समय पदस्थ पुलिसकर्मी उठाकर ले गए और ऋतुराज पार्क में छुपा कर रख दिया था।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •