रीवा/सतना : दो मामले में एक युवती से पहले दो दोस्तों ने किया बलात्कार तो दूसरी तरफ मां के प्रेमी व जीजा ने भी किया बलात्कार 1

रीवा/सतना : दो मामले में एक युवती से पहले दो दोस्तों ने किया बलात्कार तो दूसरी तरफ मां के प्रेमी व जीजा ने भी किया बलात्कार

Rewa Crime Satna

चूरू। असम की एक युवती से युवक ने फेसबुक पर दोस्ती के बाद में शादी का झांसा देकर चूरू बुलाकर होटल में बलात्कार किया। पीडि़ता ने मंगलवार को एसपी से आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की गुहार लगाई है।

असम निवासी पीडि़ता ने बताया कि पांच माह पहले आरोपी राजगढ़ निवासी आनंद से फेसबुक के जरिए दोस्ती हो गई। आरोपी ने उसे शादी का झांसा देकर चूरू बुला लिया। गत माह 22 अक्टूबर को एक होटल में ले गया। यहां पर दोस्त महेन्द्र गोस्वामी से मिलवाया। युवती ने बताया कि आनंद ने उसके साथ बलात्कार किया।

इसके बाद महेन्द्र ने भी बलात्कार किया। शादी का दबाव बनाने पर दोनों ने जान से मारने की धमकी दी। इस दौरान आरोपियों ने उससे कई बार बलात्कार किया। युवती ने बताया कि २८ अक्टूबर को दोनों राजकीय डीबी अस्पताल के सामने छोड़कर चले गए। लौटते वक्त उसका फोन भी ले गए।

एक अन्य मामले में मध्यप्रदेश के सतना निवासी एक बालिका से उसकी मां के प्रेमी व जीजा ने बलात्कार किया। इससे आहत होकर करीब आठ दिन पूर्व बालिका घर से भाग निकली। उसे कोटा स्टेशन पर स्वयंसेवी संगठन की कार्यकर्ता ने ट्रेन से उतारा व बाल कल्याण समिति को सौंप दिया। समिति ने बालिका को रीवा बाल कल्याण समिति को सौंपकर स्थानीय पुलिस को बालिका के बयान लेने व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

कोटा बाल कल्याण समिति सदस्य विमल जैन ने बताया कि बालिका ट्रेन में बैठकर जा रही थी। 26 अक्टूबर 2019 को कोटा में बालिका को उत्कर्ष संस्थान की पूजा मेघवाल ने ट्रेन से उतारा। बालिका की 23 अक्टूबर 2019 को गुमशुदगी स्थानीय थाने में दर्ज है। वहां के थाने से एक पुलिसकर्मी, उसकी मां और जीजा बालिका को लेने कोटा आए। बालिका ने काउंसलिंग के दौरान समिति अध्यक्ष कनीज फातिमा, मधुबाला शर्मा एवं राजकीय बालिका गृह कुन्हाड़ी की काउंसलर आरती को बताया कि उसके पिता की मौत के बाद मां ने किसी और पुरुष से संबंध बना लिए। उसने उसके साथ बलात्कार किया।

बालिका ने यह बात अपनी मां को बताई, लेकिन वह मानने को तैयार नहीं हुई। बालिका इसके बाद बहन के यहां चली गई। जहां जीजा ने भी उससे बलात्कार किया। ऐसी स्थिति में बालिका को मां और जीजा को सुपुर्द करना संभव नहीं था। समिति अध्यक्ष, सदस्यों शर्मा, आबिद अब्बासी, अरुण भार्गव व जैन ने सर्वसम्मति से रीवा की बाल कल्याण समिति को सौंपा। कोटा की समिति ने रीवा पुलिस को निर्देश दिए कि वह बालिका के 164 के बयान एवं मेडिकल करवाए, वारदात में लिप्त व्यक्तियों के खिलाफ पोक्सो एवं अन्य धाराओं में मामला दर्ज कराए और कोटा समिति को इससे अवगत कराए।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •