रीवा: अब लफंगों की खैर नहीं, इस महाविद्यालय के पास खुल रही है पुलिस चौकी 1

रीवा: अब लफंगों की खैर नहीं, इस महाविद्यालय के पास खुल रही है पुलिस चौकी

Rewa

पुलिस के पहरे में रहेंगे छात्राएं, कन्या महाविद्यालय में स्थापित होगी चौकी
रीवा जिले की 16 महाविद्यालयों में सुरक्षा व्यवस्था बनाने उच्च शिक्षा विभाग ने पुलिस अधीक्षक को दिया पत्र
चुनाव के समय कांग्रेस ने वचन पत्र में छात्राओं की सुरक्षा का किया था वादा

रीवा. छात्राओं एवं कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चुनाव के समय किए गए वायदे के तहत सरकार ने आदेश जारी कर दिया है। जिसमें कहा गया है कि कन्या महाविद्यालय में पढ़ाई के लिए आने वाली छात्राओं की सुरक्षा के लिए पुलिस चौकी स्थापित की जाएगी। साथ ही अन्य कालेजों में भी सुरक्षा व्यवस्था के तहत पुलिस गश्त करेगी। कन्या महाविद्यालय के प्राचार्य के पास उच्च शिक्षा विभाग ने इस आशय का पत्र भेजा है। साथ ही पुलिस अधीक्षक के पास भी पत्र आया है, जिसमें कहा गया है कि पुलिस की व्यवस्था वह अपनी ओर बनवाएं।

विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी ने अपने वचन पत्र में इसका उल्लेख किया था। सरकार बनने के बाद यही वचन पत्र कार्ययोजना में शामिल किया गया है। इसके बिन्दु क्रमांक 49.6 में उल्लेख था। जिसमें कन्या महाविद्यालय, कन्या छात्रावास एवं कामकाजी महिलाओं के कार्य क्षेत्र आदि में सुरक्षा के लिए पुलिस की व्यवस्था की जाएगी। कन्या महाविद्यालय के आसपास अराजक तत्वों जमावड़ा रहता है और आए दिन छात्राओं के साथ अभद्रता किए जाने की शिकायतें आ रही हैं। इस तरह का घटनाक्रम रीवा ही नहीं बल्कि प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी सामने आ रहा है। जिसकी वजह से अब प्रदेश भर की कन्या महाविद्यालयों में पुलिस चौकी खोली जाएगी।

महिलाओं का कामकाजी क्षेत्र भी होगा चिन्हित
पुलिस चौकी केवल कन्या महाविद्यालय में ही नहीं बल्कि कामकाजी महिलाएं जहां अधिक होंगी वहां पर भी खोली जाएगी। इसके लिए पुलिस अधीक्षक के पास पत्र आया है कि शहर के साथ ही जिले में ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित करें जहां अधिक मात्रा में महिलाओं का आना-जाना होता है।

इन कालेजों में पुलिस करेगी गश्त
छात्राओं एवं महिला कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए कालेजों के आसपास पुलिस की नियमित गश्त रहेगी। इसमें जिन कालेजों को चिन्हित किया गया है, उसमें प्रमुख रूप से माडल साइंस कालेज, ठाकुर रणमत सिंह उत्कृष्ठ महाविद्यालय, माधव सदाशिवराव गोलवल्कर कालेज, वेंकट संस्कृत महाविद्यालय, शहीद केदारनाथ महाविद्यालय मऊगंज, स्वामी विवेकानंद महाविद्यालय त्योथर, ठाकुर सोमेश्वर सिंह महाविद्यालय नईगढ़ी, शासकीय महाविद्यालय रायपुर कर्चुलियान, शासकीय महाविद्यालय गुढ़, विधि महाविद्यालय रीवा, शासकीय महाविद्यालय देवतालाब, सेमरिया, मनगवां, गोविंदगढ़ आदि शामिल हैं। ये ऐसे महाविद्यालय हैं जहां पर छात्रों के साथ छात्राएं भी अध्ययन करती हैं।

प्राचार्यों को दिए गए ये निर्देश
कन्या महाविद्यालय के साथ ही उन सभी सरकारी महाविद्यायों के प्राचार्यों के पास पत्र उच्च शिक्षा विभाग का है जहां पर छात्र-छात्राओं की संयुक्त कक्षाएं संचालित की जाती हैं। इसमें दिए गए प्रमुख निर्देश में-
– छात्राओं एवं महिला कर्मचारियों की समिति गठित की जाएगी। यह समिति सभी से सुझाव मांगेगी।
– महिला सुरक्षा को लेकर दिए गए सुझावों पर प्राचार्य पुलिस अधीक्षक एवं अन्य अधिकारियों को पत्र जारी कर सुरक्षा की मांग करेंगे।
– परिसर में सीसीटीवी लगाए जाएंगे, विशेष तौर पर निर्गम और प्रवेश द्वार पर अनिवार्य रहेगा। उन स्थानों का भी ध्यान रखना होगा कि निजता भंग नहीं हो।
– कालेज परिसर में पिछले दो वर्ष में हुई घटनाओं का ब्यौरा कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को प्राचार्य देंगे।
– कन्या महाविद्यालय एवं कन्या छात्रावास में कार्यरत सभी संविदा कर्मचारियों को १५ दिन के भीतर पुलिस सत्यापन कराना होगा।
– महिला सुरक्षा से जुड़ी यदि कोई व्यवस्था पहले से की जा रही है तो इसकी सूचना उच्च शिक्षा आयुक्त को भेजनी होगी।

छात्राओं एवं कामकाजी महिलाओं की सुरक्षा के लिए सरकार के वचन पत्र में दिए आश्वासनों के तहत सुरक्षा व्यवस्था बनाई जा रही है। कन्या महाविद्यालय में पुलिस चौकी स्थापित करने के साथ ही अन्य महाविद्यालयों में पुलिस गश्ती के लिए विभाग की ओर से पुलिस अधीक्षकों को पत्र लिखा गया है।-डॉ. प्रभात पाण्डेय, ओएसडी उच्च शिक्षा

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •