पूर्व विधायक सुंदरलाल तिवारी के निधन से बदला समीरकण, REWA से सुंदरलाल के बेटे सिद्धार्थ का नाम हुआ तय….

Madhya Pradesh Rewa
  • 71
    Shares

भोपाल। कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की दिल्ली में शुक्रवार को हुई बैठक में 9 और लोकसभा सीटों के लिए पैनल में से सिंगल नाम तय कर लिए गए। कमेटी 12 सीटों पर पहले ही सिंगल नाम तय कर चुकी थी। 

इस तरह कांग्रेस ने प्रदेश की 29 में से 21 लोकसभा सीटों के लिए सिंगल नाम तय कर लिए हैं। शेष रह गई 8 सीटों के बारे में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। इनके बारे में निर्णय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से चर्चा के बाद होगा। 
पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में चर्चा के बाद प्रत्याशियों की पहली सूची कभी भी जारी की जा सकती है। स्क्रीनिंग कमेटी की पहले हुई बैठक में पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का नाम सतना लोकसभा सीट से तय किया गया था। 
नरेंद्र मोदी की लहर एवं कांग्रेस विधायक नारायण त्रिपाठी के अचानक पाला बदलने के कारण अजय सिंह सतना से लोकसभा का पिछला चुनाव मात्र 8 हजार वोटों के अंतर से हारे थे। पर खबर है कि पार्टी उन्हें उनके गृह क्षेत्र सीधी से लड़ाना चाहती है। 
ऐसे में उन्हें सीधी भेजा जा रहा है और सतना से विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष राजेंद्र कुमार सिंह का नाम तय हो रहा है। अजय सिंह और राजेंद्र सिंह दोनों विधानसभा का चुनाव हार गए हैंं। विंध्य की रीवा सीट में पूर्व विधायक सुंदरलाल तिवारी के निधन से समीरकण बदल गए हैं और अब उनके बेटे सिद्धार्थ का नाम तय हुआ है। 
 
कुछ सीटों में बदलाव संभव
स्क्रीनिंग कमेटी द्वारा सिंगल नाम तय करने के बावजूद इनमें से कुछ लोकसभा सीटें ऐसी भी हैं, जहां केंद्रीय चुाव समिति प्रत्याशी बदल सकती है। इनमें खरगोन, बैतूल, बालाघाट एवं मंडला की सीटें शामिल हैं। बैतूल में अजय शाह के अलावा रामू टेकाम एवं रामा काकोड़िया, बालाघाट में विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे के भाई पवर कांवरे एवं मंडला में कृष्णा उरैती एवं संजीव उइके जोर लगा रहे हैं। 
सागर से प्रभु सिंह, खरगोन से प्रवीणा का नाम शामिल
स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में शुक्रवार को 9 लोकसभा सीटों के लिए सर्वे एवं रायशुमारी से तैयार दावेदारों के पैनल में से सिंगल प्रत्याशी का नाम तय किया गया। इनमें सागर से प्रभु​ सिंह ठाकु, टीकमगढ़ से संजय कसगर, सतना से राजेंद्र कुमार सिंह, रीवा से सिद्धार्थ राज सुंदरलाल तिवारी, मंडला से गुलाब सिंह उइके, बालाघाट से विश्वेशवर भगत, देवास से प्रहलाद सिंह टिपानिया, उज्जैन से नीतिश तुलसी सिलावट तथा खरगोन से प्रवीणा बाला बच्चन के नाम शामिल है। हालांकि इनमें से देवास में सज्जन सिंह वर्मा के बेटे एवं मंडला में कृष्ण उरैती एवं संजीव छोटेलाल उइके अब भी दोवदार बने हुए है। 
 
इन 8 सीटों पर फैसला नहीं
स्क्रीनिंग कमेटी ने जिन 8 लोकसभा सीटों के बारे में फैसला नहीं लिया, उनमें प्रदेश के चारों महानगरों भोपाल, ग्वालियर, इंदौर एवं जबलपुर शामिल है। इसके अलावा विदिशा सीट ज्यातिरादित्य सिंधिया के खाते में डाली गई है और होशंगाबाद, खजुराहो एवं शहडोल पर सहमति नहीं बन सकी। होशंगाबाद में सुरेश पचौरी, रामेश्वर नीखरा, सरताज सिंह एवं मानक अग्रवाल दावेदार है। 
खजुराहो में विधायक विक्रम सिंह नातीराजा की पत्नी पूर्व विधायक मुकेश नायक, पूर्व विधायक शंरकप्रताप सिंह मुन्ना राजा एवं भाजपा के एक विधायक के नाम की चर्चा है। इन्हें कांग्रेस में शामिल कर चुनाव लड़ाया जा सकता है। शहडोल में हिमाद्री सिंह को लेकर असमंजस बरकरार है। टिकट के लिए उनके सामने अपने पति को भाजपा से कांग्रेस में लाने की शर्त रखी गई है। 
 
सिंधिया-भूरिया पुरानी सीटें छिंदवाड़ा से नकुलनाथ
स्क्रीनिंग कमेटी की पहले हुई बैठक में तय हुआ था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं कांतिलाल भूरिया अपनी परंपरागत सीटों गुना-शिवपरी एवं रतलाम-झाबुआ से चुनाव लड़ेंगे जबकि छिंदवाड़ा से मुख्यमंत्री कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ का नाम तय किया गया। दिग्विजय सिंह अपने गृह क्षेत्र राजगढ़ से ही चुनाव लड़ेंगे। 
मंदसौर से मीनाक्षी नटराजन एवं खंडवा से अरुण यादव के नाम पर पहले ही मुहर लग चुकी है। मुरैना से रामनिवास रावत, भिंड से महेंद्र बौद्ध, धार से गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी एवं बैतूल से अजय शाह का नाम तय हो चुका है। दमोह से भाजपा से कांग्रेस में आए रामकृष्ण कुसमारिया का नाम तय किया गया है। 
Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
    71
    Shares
  • 71
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •