रीवा: छेड़छाड़ की शिकायत पर पुलिस ने नहीं लिया एक्शन, अब फिल्मी स्टाइल से छात्रा को किया किडनैप

क्राइम रीवा

रीवा। नईगढ़ी थाना क्षेत्र के ग्राम शिवराजपुर में 12वीं की छात्रा के अपहरण मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है। परिजनों ने 7 माह पूर्व छात्रा के साथ गांव के ही सरहंगो द्वारा की गई छेडख़ानी की शिकायत दर्ज कराई गई थी, लेकिन पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया और छात्रा का अपहरण कर लिया गया।

छात्रा के परिजनों ने पूर्व में छेडख़ानी करने वाले युवक व उसके साथी पर अपहरण किए जाने का आरोप भी लगाया है। घटना के बाद से दोनों संदेही फरार बताए गए, जिनकी तलाश की जा रही है। वहीं, अपहृत छात्रा का भी अब तक कोई सुराग पुलिस के हाथ नहीं लगा है।

परिजनों ने की थी शिकायत, न पुलिस ने एक्शन लिया, न स्कूल प्रबंधन ने 

बताया गया है कि अपहृत छात्रा के साथ 11 जनवरी 2018 को स्कूल जाते समय गांव के ही लक्ष्मी तिवारी पिता राजमणि तिवारी ने अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर रास्ता रोककर छेडख़ानी की थी। घटना के दौरान छात्रा के विरोध करने पर जब पड़ोस के लोग मौके पर पहुंचे तो आरोपी भाग खड़े हुए थे। घटना के बाद इस मामले की लिखित शिकायत छात्रा के परिजन द्वारा नईगढ़ी थाना सहित स्कूल प्रबंधन से की गई थी। जिस मामले में न तो पुलिस ने कोई कदम उठाया और ना ही स्कूल प्रबंधन ने।

एक्शन लिया होता तो न होती अपहरण की वारदात 

बताया गया कि छेडख़ानी करने वाली युवक के साथी को परिजनों ने पकड़कर पुलिस के हवाले भी किया था, जिसे पुलिस ने धारा 151 की प्रतिबंधात्मक कार्रवाई कर छोड़ दिया था। माना जा रहा है कि परिजनों की शिकायत पर पुलिस अगर पूर्व में ही आरोपियों के विरूद्ध कार्रवाई करती तो शायद छात्रा के अपहरण की घटना घटित न होती।

इधर पीडि़त परिजनों का बुरा हाल

छात्रा के अपहरण की घटना के बाद पीडि़त परिजनों का बुरा हाल है। सोमवार को अपहृत छात्रा का दूसरे दिन भी सुराग नहीं मिलने से परिजनों की चिंता बढ़ती जा रही है। घटना के बाद से परिजनों को तरह-तरह की आशंकाए हो रही हैं। वहीं, घटना को लेकर जैसे-जैसे समय बीत रहा है। वैसे-वैसे लोगों का आक्रोश भी बढ़ता जा रहा है।

मामले में पुलिस द्वारा पूर्व में ही बरती गई लापरवाही के उजागर होने पर सबसे ज्यादा आक्रोश पुलिस के खिलाफ है। हालांकि, पुलिस अधिकारी इस मामले में लगातार नजर रखे हुए हैं।