रीवा: फिल्मी स्टाइल में उप्र की कार से आएं नकाबपोशों ने सरेराह छात्रा को किया अगवा

क्राइम रीवा

रीवा वासियों के लिए बेहद बुरी खबर है, रीवा अब किसी भी सूरत में महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है! सोमवार को एक सनसनीखेज वारदात में कार सवार बदमाश फिल्मी स्टाइल में 12वीं की छात्रा को उठा गए। नईगढ़ी थाना क्षेत्र के ग्राम शिवराजपुर में हुई अपहरण की इस वारदात के दौरान किशोरी अपने छोटे भाई के साथ स्कूल जा रही थी। घटना की जानकारी मिलते ही छात्रा के परिजनों में हड़कंप मच गया और सूचना पुलिस को दी गई।

सरेराह छात्रा के अपहरण की खबर मिलते ही एसपी सुशांत ससेना, एएसपी शिव कुमार सिंह, एसडीओपी अजय संजर सहित थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस अधिकारियों ने अपहृत छात्रा के परिजनों से घटना की जानकारी लेने के बाद ततीश शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक शिवराजपुर निवासी जायसवाल परिवार की 12वीं की छात्रा (17) रोजाना की तरह सोमवार सुबह तकरीबन 10.30 बजे 12 वर्षीय छोटे भाई के साथ पैदल ही स्कूल जा रही थी। छात्रा जैसे ही रास्ते में पडऩे वाले भुलनिहवा तालाब के समीप पहुंची, तभी सड़क किनारे खड़ी सफेद रंग कार का गेट अचानक खुला और उसमें सवार बदमाशों ने छात्रा को जबरदस्ती खींच कर अंदर बैठा लिया और मुय मार्ग की ओर भाग खड़े हुए। घटना के बाद अगवा छात्रा के छोटे भाई ने घर पहुंचकर परिजनों को मामले की जानकारी दी, यह सुनते ही परिजनों के होश उड़ गए और पूरे परिवार सहित कस्बे में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई। स्थानीय ग्रामीणों द्वारा दी गई सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई और घटना की तस्दीक करते हुये पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया। पुलिस ने घटना के बाद जिलेभर में नाकेबंदी की, लेकिन देर शाम तक पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा।

बदमाशों के चेहरे पर था नकाब

बताया गया है कि घर से स्कूल की दूरी तकरीबन 500 मीटर है। छात्रा घर से निकलने के बाद लगभग 300 मीटर का रास्ता तय कर चुकी थी, तभी सूनसान जगह पर पहले से घात लगाकर बैठे कार सवार बदमाशों ने छात्रा का हाथ पकड़कर कार में अंदर की ओर खींचने लगा। घटना के दौरान छात्रा ने काफी विरोध किया, लेकिन छात्रा बदमाशों का ज्यादा देर तक विरोध न कर सकी और बदमाश उसे कार में बैठाकर भाग खड़े हुये। अगवा छात्रा के भाई ने बताया, कार सवार सभी बदमाशों के चेहरे पर नकाब था, जिसके कारण किसी की भी पहचान नहीं की जा सकी।

गांव के 2 युवकों पर संदेह

छात्रा के अपहरण मामले में परिजनों ने गांव के ही दो युवकों पर अपहरण किये जाने का संदेह जाहिर किया है। परिजनों ने गांव के लक्ष्मीनारायण तिवारी पिता राजमणि तिवारी एवं दिनेश जायसवाल पिता रामदरश जायसवाल नामक युवक पर आरोप लगाते हुए बताया, उक्त दोनों युवकों द्वारा छात्रा के साथ राह चलते छेडख़ानी की जाती थी। इसकी शिकायत स्कूल प्रबंधन सहित पुलिस से की गई थी, लेकिन परिजनों की शिकायत का कोई असर नहीं पड़ा और संदेही लगातार छात्रा को परेशान कर रहे थे। इसका विरोध किए जाने पर संदेहियों ने घर आकर धमकाया भी था। माना जा रहा है कि परिजनों की शिकायत पर पुलिस अगर पूर्व में ही कार्रवाई करती तो शायद छात्रा के साथ ऐसी घटना नहीं होती।

संदेही गांव से फरार

छात्रा के परिजनों द्वारा संदेह जाहिर करने पर पुलिस ने जब दोनों युवकों की तलाश की तो दोनों संदेही गांव से फरार बताए गए। पुलिस ने जब परिजनों से जानकारी ली तो युवक तीन दिनों से घर से बाहर रहना बताया गया। जबकि ग्रामीणों ने बताया कि एक संदेही को घटना के कुछ देर पूर्व साइकिल से जाते देखा गया था। पुलिस संदेहियों के संबंध में जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है और जिलेभर में नाकेबंदी की गई है। हालांकि, घटना की देर शाम तक पुलिस को न तो छात्रा को कोई सुराग मिला और ना ही संदेही हत्थे चढ़े।