bank-robbery-rewa

रीवा: कर्मचारियों को गन प्वाइंट में लेकर बैंक से लूट ले गए 11 लाख, देखें वीडियो…

क्राइम रीवा

कर्मचारियों को गन प्वाइंट में लेकर नकाबपोशों ने दिया वारदात को अंजाम, शहर में सनसनी

रीवा. सशस्त्र डकैतों ने दिनदहाड़े मध्यांचल बैंक में डकैती डालकर सनसनी फैला दी। नकाबपोश बदमाशों ने कर्मचारियों को गन प्वाइंट में लेकर बैंक की तिजोरी से लाखों रुपए लूट लिए। सरेआम वारदात को अंजाम देकर बदमाश मौके से फरार हो गये। इस घटना से शहर में सनसनी फैल गई है। पुलिस ने बदमाशों की धरपकड़ के लिए नाकाबंदी कर दी लेकिन उनका पता नहीं चल पाया है।

यह सनसनीखेज वारदात चोरहटा थाने के करहिया स्थित मध्यांचल बैंक में हुई। बैंक में बुधवार की सांयकाल करीब पौने चार बजे पांच की संख्या में हथियारबंद बदमाश अंदर दाखिल हुए थे। बदमाश अपना चेहरे ढके हुए थे। जैसे ही बैंक में सभी खाताधारक अपना काम करवाकर बाहर निकल आये तभी बदमाश हरकत में आ गये। बदमाशों ने बेंक के अंदर मौजूद कर्मचारियों पर कट्टा तान दिया। एक-एक करके सभी कर्मचारियों को कमरे में बंद कर दिया। इस दौरान बदमाशों ने कैश काऊंटर में रखे रुपए उठा लिये। इसके बाद कर्मचारियों से सेफ काऊंटर की चाभी लेकर उसका ताला खोला और उसमें रखे लाखों रुपए नगद समेट लिये। कुल 15 मिनट की वारदात में 11 लाख रुपए लेकर फरार हो गए। बदमाश जाते-जाते बैंक कर्मचारियों का मोबाइल भी साथ लेते गए।

डकैतों के जाने के बाद बजाया अलार्म
बैंक में बंधक बने कर्मचारियों ने डकैतों के जाने के बाद अलार्म बजाया तो दो स्थानीय लोग आ गये। उनके मदद से वे बाहर निकले और पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही आईजी उमेश जोगा, डीआईजी अविनाश शर्मा, एसपी सुशांत सक्सेना, सीएसपी शिवेन्द्र सिंह सहित चोरहटा थाने का बल मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। एसपी के निर्देश पर तत्काल पूरे जिले में नाकाबंदी करवा दी गई। हालांकि बदमाश पुलिस के हांथ नहीं लग पाये है। वारदात को अंजाम देने वाले सभी बदमाश हथियारों से लैश थे और वे पूरी तैयारी करके आये हुए थे। उक्त वारदात को अंजाम देकर बदमाशों ने कानून और व्यवस्था की पोल खोलकर रख दी। पुलिस संदेहियों की तलाश में जुटी है।

कैसे दिया वारदात को अंजाम
बैंक के अंदर पौने चार बजे पांच की संख्या में बदमाश घुसे। तीन बदमाश कुर्सी में बैठ गये और दो अंदर खड़े थे। एक महिला जैसे ही अपना पैसा लेकर बैंक से बाहर निकली तो एक बदमाश ने कैशियर विनायक प्रसाद द्विवेदी पर कट्टा तान दिया। कुर्सी में बैठा दूसरा बदमाश काऊंटर कूदकर अंदर घुसा और प्रबंधक मोतीलाल सोनी पर कट्टा अड़ा दिया। इसके बाद चपरासी श्रवण कुमार पाण्डेय सहित तीनों कर्मचारियों को सेफ रुम के बगल वाले कमरे में ले जाकर बंद कर दिया। एक बदमाश अपने कट्टे का मुंह कर्मचारियों की ओर ताने था और बाकी बदमाश कैश काऊंटर व सेफ रुम से रुपए समेटने में लगे हुए थे। महज पन्द्रह मिनट के अंदर ही उन्होंने पूरी वारदात को अंजाम दिया।

नहीं था सुरक्षाकर्मी, भगवान भरोसे था बैंक
बैंक अधिकारियों की लापरवाही एक बार फिर खाताधारकों के रुपयों पर भारी पड़ गई। बैंक अधिकारियों ने यहां पर सुरक्षाकर्मी ही तैनात नहीं किया था। बैंक की सुरक्षा पूरी तरह भगवान भरोसे थी। यही कारण है कि बदमाशों ने इस बैंक को निशाना बनाया। लोगों का पैसा सुरक्षित रखने का दावा करने वाले बैंक अधिकारी खुद सुरक्षा में लापरवाही बरतते हंै।

एफएसएल टीम, फिंगर प्रिंट एक्सपर्ड व साइबर टीम पहुंची
इस घटना की सूचना मिलते ही सीन आफ क्राइम यूनिट के वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. आरपी शुक्ला व फिंगर प्रिंट एक्सपर्ड वीरेन्द्र पाण्डेय भी मौके पर पहुंचे। साइबर एक्सपर्ड गौरव मिश्रा भी घटनास्थल पहुंचे। एफएसएल टीम ने बैंक के अंदर हर कोना अच्छी तरह से निरीक्षण किया। बैंक के अंदर से बदमाशों के फिंगर प्रिंट भी उठाये गये हैं।

सीसी टीवी फुटेज खंगाल रही पुलिस
इस घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस बैंक में लगे सीसी टीवी फुटेज खंगाल रही है। बैंक में लगे सीसी टीवी फुटेज में बदमाश कैद हुए हैं। हालांकि बदमाशों के नकाबपोश होने की वजह से उनका चेहरा स्पष्ट समझ नहीं आ रहा है। कैमरे में पूरी घटना कैद हो गई है। बैंक के अंदर घुसने के बाद बदमाशों ने कुछ देर तक सही मौके इंतजार किया था।

रेकी करके दिया वारदात को अंजाम
बदमाशों ने उक्त सनसनीखेज वारदात को अचानक अंजाम नहीं दिया है। बदमाशों ने वारदात को अंजाम देने के पहले अच्छी तरह रेकी की थी। शाम के समय बैंक में भीड़ काफी कम रहती है। इसके अतिरिक्त पूरा बैंक एक बड़े से हाल में संचालित होता है जिसका सेफ रुम सामने ही दिखता है। घटना को अंजाम देने के साथ ही भागने का पूरा प्लान बदमाशों ने पहले ही तैयार कर रखा था।

पूर्व में भी निशाना बन चुके हैं बैंक
बैंकों को इससे पूर्व भी बदमाशों ने निशाना बनाया है। करीब दो साल पूर्व विवि थाने के अजगरहा के समीप स्थित मध्यांचल बैंक में भी ठीक इसी तरह बदमाशों ने कर्मचारियों को गन प्वाइंट में लेकर पांच लाख रुपए लूट लिये थे। उसका भी पुलिस आज तक पता नहीं लगा पाई है। इसके अतिरिक्त चोरहटा यूनियन बैंक में चार बार बदमाश चोरी का प्रयास कर चुके हैं। इसके बाद भी व्यवस्था पुराने ढर्रे पर चल रही है। चोरहटा थाने का कपसा बैंक भी दो बार बदमाशों का शिकार बन चुका है।


बदमाशों को पकडऩे के लिए नाकाबंदी कराई गई है। सीसी टीवी फुटेज में चार बदमाश नजर आये हैं। प्रथम दृष्ट्यिा वारदात को अंजाम देने में बाहरी गैंग का हाथ होने के तथ्य सामने आ रहे हैं। जल्द बदमाशों को पकडऩे के प्रयास किये जा रहे हैं।

-सुशांत सक्सेना, एसपी रीवा

वीडियो