'पंच मोदी चैलेंज': केरल में पंचिंग बैग पर लगाई मोदी की तस्वीर, बरसाई लात 1

‘पंच मोदी चैलेंज’: केरल में पंचिंग बैग पर लगाई मोदी की तस्वीर, बरसाई लात

National

केरल के कोच्चि स्थित मरीन ड्राइव के रेनबो पुल के पास पिछले रविवार को एक पंचिंग बैग रखा गया था। ये कोई साधारण पंचिंग बैग नहीं था, बल्कि उस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो लगी हुई थी। इस पंचिंग बैग को ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन (एआईएसएफ) ने वहां प्रदर्शित किया था और दर्शकों को दो विकल्प दिए गए थे। पहला कि अगर उन्हें लगता है कि केंद्र की मोदी सरकार ने आम लोगों के लिए बढ़िया काम किया है, तो वे बैग को गले लगा सकते हैं। दूसरा विकल्प था कि अगर उन्हें लगता है केंद्र सरकार ने अच्छे काम नहीं किए हों तो वे पंचिंग बैग पर जितनी चाहे लात मार सकते हैं।

तेल की बढ़ती कीमतों ने किया जीना मुश्किल
आयोजकों के मुताबिक, इस इवेंट ‘पंच मोदी चैलेंज’ में भाग लेने वाले करीब 500 लोगों में से किसी ने भी पंचिंग बैग को गले नहीं लगाया, बल्कि सभी ने पंच और लात मारे। इस घटना का वीडियो वायरल हो रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एआईएसएफ एर्नाकुलम जिलाध्यक्ष एमआर हरिकृष्णन ने कहा कि हमारे देश की वर्तमान स्थिति बेहद दयनीय है। तेल की कीमतें दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं। जीवन जीना मुश्किल हो गया है।

इन सबसे अगल मलयायी लोगों के पास बाढ़ राहत अभियान में उचित सहायता उपलब्ध न कराने को लेकर मोदी सरकार के विरोध करने का मुद्दा है और संगठन विरोध करने का कुछ अलग तरह का कैंपेन करना चाहता था। इसलिए ‘मोदी पंच चैलेंज’ का आयोजन किया गया। बता दें कि हाल ही में अमेरिका में भी डोनाल्ड ट्रंप को लेकर कुछ इसी तरह का आयोजन किया गया था।

बाढ़ में उचित सहायता न मिलने से नाराज हैं लोग
संगठन के लोगों ने कहा कि हम पीएम को टारगेट नहीं कर रहे हैं, बल्कि उनके चेहरे को केंद्र सरकार के प्रतीक स्वरूप इस्तेमाल कर रहे हैं और हमारा इरादा उन्हें चोट पहुंचाने का नहीं है। इस कार्यक्रम में सिर्फ मलयालयी लोगों ने ही नहीं, बल्कि देश के विभिन्न राज्यों जैसे बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के लोग भी शामिल हुए। हरिकृष्णन ने कहा कि यहां की महिलाएं केंद्र सरकार से इस बात से अधिक नाराज थीं कि बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए उचित सहायता मुहैया नहीं कराई गई।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •