हमारे सैनिक क्रिकेट से ज्यादा अहम, सिद्धू को नहीं जाना चाहिए था पाक: गंभीर

National Sports

नई दिल्लीः एशिया कप के 14वें संस्करण की शुरुआत यूएई में बांग्लादेश-श्रीलंका के मुकाबले के साथ हो चुकी है। वहीं, भारत का पहला मुकाबला 18 सितंबर को हांगकांग से होगा, जबकि दूसरा मुकाबला 19 को चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से होगा। भारत का पाकिस्तान के साथ 1 साल बाद मुकाबला होगा, लेकिन इसके शुरू होने से पहले ही सवाल उठने लगे हैं कि क्या दुश्मन देश के साथ खेलना जरूरी है। इस पर क्रिकेटर गाैतम गंभीर ने एक चैनल को दिए इंटरव्यू के दाैरान बयान देते हुए इस मैच का बहिष्कार किया। साथ ही, क्रिकेटर से राजनेता बन चुके नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान जाने पर भी सवाल उठाए।

सिद्धू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था
गंभीर ने सिद्धू के पाकिस्तान दाैरे पर कहा, ”सिद्धू को पाकिस्तान नहीं जाना चाहिए था। जो देश आतंक फैला रहा है, उसके साथ जबरदस्ती हाथ मिलाना गलत है। पाक आर्मी चीफ को गले लगाने से पहले शहीद जवानों और उनके परिवार के बारे में सोचना चाहिए था।” बता दें कि हाल ही में सिद्धू पाकिस्तान के पीएम बने इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में गए थे। वहां उन्होंने पाक आर्मी चीफ बाजवा को गले लगाया, जिसके बाद उनका कड़ा विरोध होने लगा। साथ ही तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के सांसद फैसल जावेद से साथ बातचीत के दौरान उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) के विजेताओं के बीच तीन मैचों की सीरीज का सुझाव दिया था।

क्रिकेट से अहम हमारे जवान
एशिया कप में पाकिस्तान के साथ मैच होने से पहले गंभीर ने कहा, ”अगर रिश्ते ठीक नहीं हैं तो मैच नहीं होना चाहिए। क्रिकेट से अहम हमारे जवान हैं जो सीमा पर हमारी रक्षा के लिए आतंक से लड़ रहे हैं। सरकार पहले सीमा सुरक्षित करे, फिर क्रिकेट खेला जाए।” उन्होंने कहा कि एक तरफ सीमा पर सैनिक शहीद हो रहे हैं, ऐसे में हमें पाकिस्तान के साथ किसी भी जगह क्रिकेट नहीं खेलना चाहिए।

पाकिस्तान के साथ ना हो कोई भी मैच
गंभीर ने साफ-साफ कहा है कि पाकिस्तान के साथ अगर सीरीज नहीं खेलनी तो फिर आईसीसी या एशिया कप जैसे इवेंट में भी भारत पाकिस्तान के साथ नहीं खेले। उन्होंने कहा, ”सरकार अगर आईसीसी इवेंट में भारत को पाकिस्तान के खिलाफ खेलने की अनुमति देती है तो सीरीज के लिए भी दे और अगर सीरीज नहीं हो रही है तो पूरी तरह पाकिस्तान को बैन करे।”

कपिल को रिश्ते सुधरने की उम्मीद
वहीं, पूर्व कप्तान कपिल देव को इमरान के प्रधानमंत्री बनने से रिश्ते सुधरने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की नई सरकार भारत के साथ संबंध बेहतर करने की कोशिश करेगी, ताकि फिर से दोनों देशों के बीच क्रिकेट शुरू हो सके। संबंध बेहतर होने के बाद ही दोनों देशों के बीच क्रिकेट मैच खेले जाएं।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •