2022 तक देश में दौड़ने लगेगी बुलेट ट्रेन, सबसे पहले इन दो स्टेशन के बीच में दौड़ेगी1 min read

National

नई दिल्ली : मोदी सरकार की सबसे महत्वकांक्षी परियोजना के तहत बुलेट ट्रेन पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं. विपक्षी दल जहां इसकी उपयोगिता पर सवाल उठा रहे हैं, वहीं सरकार इसे तय समय सीमा में पूरा करने के लिए पूरी कोशिशों में जुटी हुई है. देश की पहली बुलेट ट्रेन मुंबई से गुजरात के सूरत के बीच चलेगी. अब कहा जा रहा है कि पहले चरण में 2022 तक बुलेट ट्रेन दौड़ने लगेगी. ऐसी योजना बनाई जा रही है कि पहली बार बुलेट ट्रेन गुजरात में सूरत से बिलिमोरा के बीच चलेगी. मुंबई से सूरत के बीच 508 किमी का ये प्रोजेक्ट 2023 तक पूरा होने की संभावना है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, केंद्र सरकार चाहती है कि इस प्रोजेक्ट के पहले चरण के अंतर्गत 15 अगस्त 2022 तक इसका पहला चरण पूरा हो जाए. उस समय देश आजादी के 75 साल पूरे कर रहा होगा. नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन से जुड़े सूत्रों के अनुसार, सूरत से बिलिमोरा के बीच सेक्शन को इसलिए चयनित किया गया है क्योंकि इनके बीच बिल्कुल सीधा अलाइनमेंट है. इसलिए इसके निर्माण को तय समय सीमा के भीतर पूरा किया जा सकता है. इसके बाद दूसरे हिस्से में काम शुरू होगा.

सबसे बड़ा सवाल ये है कि जापान की तकनीक भारत में काम कैसे करेगी. यह उसी दक्षता से भारत में काम कर सफल हो पाएगी. आने वाली फरवरी में भारत में जो लोग इस प्रोजेक्ट से जुड़े हैं, उन्हें जापान के विशेषज्ञ प्रशिक्षण देंगे. बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के तहत वड़ोदरा में हाईस्पीड ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट बनाया जा रहा है. ये इंस्टीट्यूट इतना अहम है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाइए कि इसकी अनुमानित लागत 600 करोड़ है. एग्रीमेंट के अनुसार, जापानी विशेषज्ञ यहां भारतीय इंजीनियरों और दूसरे लोगों को बुलेट ट्रेन की तकनीक के संबंध में प्रशिक्षण देंगे. 2023 तक देश में बुलेट ट्रेन चलाने के लिए 3500 प्रशिक्षित लोगों की जरूरत पड़ेगी. इसके लिए ये इंस्टीट्यूट बनाया जा रहा है.

अब तक करीब 1500 भारतीय अधिकारियों को जापान की ओर से शॉर्ट टर्म ट्रेनिंग दी जा चुकी है. अक्टूबर में लंबी अवधि वाला दूसरा ट्रेनिंग सेशन शुरू होगा.

Facebook Comments