26 को बंद रहेंगे बैंक, कारण जाने क्यों नाराज हैं कर्मचारी

26 को बंद रहेंगे बैंक, कारण जाने क्यों नाराज हैं कर्मचारी

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

26 को बंद रहेंगे बैंक, कारण जाने क्यों नाराज हैं कर्मचारी

नई दिल्ली। बैंकों के निजीकरण के साथ ही श्रम कानून में किये गए परिवर्तन सहित कई मांगों को लेकर देश के 10 ट्रेड यूनियनों के सम्र्थन में बैक कर्मचारी 26 नवम्बर को हडताल पर रहेगे। बैकों में हडताल रहने से जहां उपभोक्ताओं का परेशानी का सामना करना पडेगा तो वही करोडों का लेनदेन प्रभावित होगा।

हडताल में सार्वजनिक तथा निजी क्षेत्र के बैंक शामिल होंगे। यूनियनो का कहना है कि सरकार बैंका का निजीकरण कर कर्मचारियों के साथ साथ देश के युवाओं के साथ अन्याय कर रही है। उनका कहना है कि निजीकरण से अधिकारों का हनन हो रहा है।

10 ट्रेड यूनियनों का सम्र्थन

अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ एसबीआई और ओवर सीज बैंक को छोडकर सभी 10 ट्रेड यूनियनों ने हडताल का समर्थन किया है। तो वही देश भर में बैकिंग के क्षेत्र में कार्य कर रहे अन्य ज्यादातर बैंकों ने हडताल का समर्थन किया है। महाराष्ट्र के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, पुराने क्षेत्र के निजी बैंक तथा ग्रामीण क्षेत्र के बैंक, विदेशी बैंक की 10 हजार बैकों के लगभग 30 हजार कर्मचारी हडताल में शामिल होंगे।

हडताल का मुख्य कारण

हडताल में शामिल 10 ट्रेड यूनियनों का कहना है कि सरकार बैंको का निजीकरण कर रही है। जिससे कर्मचारी नाराज है। वहीं पर्याप्त नियुक्तियां नही हो रही हैं। आउटर्सोसिंग व कांटेक्ट सिस्टम का विरोध, बडे कार्पाेरेट डिफाल्टरों से वसूली के लिए कडे कानून, बैंक डिपाजिट की ब्याज दरों में बढोत्री, सर्विस चार्ज में कटौती जैसी मांगों को शामिल किया गया है। साथ ही कहा गया है कि सरकार 27 साल पुराने श्रम कानून को खत्म कर तीन नये कानून पारित किये गये है। इन्हीं के विरोध में हडताल किया जा रहा है।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *