आर्मेनिया

आर्मेनिया-अजरबैजान युद्ध: जानिए क्यों लड़ रहे हैं दोनों देश

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

आर्मेनिया-अजरबैजान युद्ध: जानिए क्यों लड़ रहे हैं दोनों देश

Best Sellers in Health & Personal Care

नागोर्नो-करबख क्षेत्र को लेकर दोनों देशों के बीच दशकों से विवाद चला आ रहा है और दोनों के बीच युद्ध भी हुआ है। लेकिन इस बार यह युद्ध और बढ़ गया है। सबसे चिंताजनक बात यह है कि यह युद्ध अब दोनों देशों के बीच सीमित नहीं है। रूस और तुर्की भी इसमें खुलकर हस्तक्षेप कर रहे हैं। जबकि तुर्की अजरबैजान के समर्थन में है, रूस ने दोनों देशों के साथ व्यापार संबंधों को समाप्त करने की बात कही है।

यह युद्ध नागोर्नो-करबख नामक एक पहाड़ी क्षेत्र पर चल रहा है। अजरबैजान का दावा है कि यह क्षेत्र उनका है, हालांकि 1992 के युद्ध के बाद से इस क्षेत्र पर आर्मेनिया का कब्जा है। ऐतिहासिक रूप से, इस क्षेत्र में अलगाववादी संगठनों का वर्चस्व रहा है। इसके कारण कई दशकों के जातीय संघर्ष हुए। दोनों देशों के बीच यह विवाद कई दशकों पुराना है। 1980 के दशक से 1992 तक दोनों देशों के बीच इस क्षेत्र को लेकर युद्ध हुआ। उस दौरान 30 हजार से अधिक लोग मारे गए थे और दस लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए थे। 1994 में संघर्ष विराम के बाद भी हिंसा की लगातार खबरें आ रही थीं। ये दोनों देश युद्ध विराम के लिए सहमत हुए लेकिन शांति समझौते के लिए कभी सहमत नहीं हुए।

MP सरकार ने राज्य के प्राथमिक और मध्य विद्यालयों को फिर से खोलने पर लिया ये फैसला

जिस समय नागोर्नो-करबाख में जनमत संग्रह हुआ था, उस समय दोनों पक्षों में भयंकर हिंसा हुई थी और लाखों लोग मारे गए थे। स्थिति तब बिगड़ गई जब क्षेत्र के स्थानीय प्रशासन ने आर्मेनिया में शामिल होने का इरादा व्यक्त किया। ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि यह क्षेत्र एक जातीय अर्मेनियाई बहुल क्षेत्र है। 1992 तक, स्थिति खराब हो गई और लाखों लोग विस्थापित हो गए।

भारत 2050 तक होगा दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था

1994 में रूस के हस्तक्षेप के बाद, अर्मेनिया और अजरबैजान के बीच संघर्ष विराम हुआ। लेकिन विवाद जारी रहा और तीन दशकों के बाद दोनों ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन हुआ। नागोर्नो-करबाख पर ‘द रिपब्लिक ऑफ आर्ट्सख’ का शासन है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अजरबैजान इसका मान्यता प्राप्त शासक है।

सैमसंग गैलेक्सी A21 खरीदने के लिए क्लिक करे

वर्तमान युद्ध कैसे शुरू हुआ

जुलाई 2020 में, दोनों देशों के लोगों के बीच हिंसक झड़पें हुईं, जिसमें 16 लोगों की मौत हो गई। उसके बाद, अज़रबैजान में जनता का गुस्सा भड़क उठा और बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए। लोगों ने मांग की कि देश इस क्षेत्र पर कब्जा कर ले। कुछ ही दिनों में दोनों देशों ने एक दूसरे पर आरोप लगाना शुरू कर दिया। अजरबैजान ने दावा किया कि उन्होंने तभी जवाबी हमला किया जब अर्मेनियाई लोगों ने अजरबैजान के लोगों को मार डाला। यह भी दावा किया जाता है कि उन्होंने आर्मेनिया के उग्रवादियों को पकड़ लिया है। वहीं, अर्मेनिया ने दावा किया है कि अजरबैजान ने शांति भंग की है। यदि हम दोनों देशों के दावों पर विचार करें, तो इस अवधि के दौरान दर्जनों लोग मारे गए। इससे पहले 2016 में भीषण युद्ध हुआ था जिसमें लगभग 200 लोगों की मौत हो गई थी।

कोरोना वायरस कांच, मुद्रा पर 28 दिन जीवित रहता है: शोधकर्ता

कई देश प्रभावित हो सकते हैं

अगर यह युद्ध लंबे समय तक चलता है, तो कई देशों की अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हो सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस क्षेत्र से गैस और तेल पाइपलाइनें गुजरती हैं। ये पाइपलाइन हैं जिनके माध्यम से रूस और तुर्की को तेल की आपूर्ति की जाती है। इसमें मुख्य रूप से बाकू-टिबिलिसी-सेहान तेल पाइपलाइन, पश्चिमी मार्ग निर्यात तेल पाइपलाइन, ट्रांस अनातोलियन गैस पाइपलाइन और दक्षिण काकेशस गैस पाइपलाइन शामिल हैं। अज़रबैजान में भी तुर्कों की बड़ी आबादी है। यही कारण है कि तुर्की इसे एक मित्र देश मानता है।

अर्मेनिया के साथ तुर्की के संबंध कभी अच्छे नहीं रहे हैं।

जब भी अर्मेनिया और अजरबैजान के बीच संघर्ष हुआ, तुर्की ने आर्मेनिया के साथ अपनी सीमाएं बंद कर दीं।

विवाद गहराए जाने के बाद तुर्की एक बार फिर आर्मेनिया के खिलाफ खड़ा है। रूस आर्मेनिया के साथ है।

रूस के पास यहां एक सैन्य अड्डा भी है।

४ हालांकि, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दोनों देशों से युद्धविराम की अपील की है।

साथ ही, तुर्की ने सीधे तौर पर अजरबैजान को इस युद्ध में भाग न लेने की बात दोहराते हुए आगे बढ़ने की सलाह दी है।

साथ ही आर्मेनिया से अपील की, कि वह पीछे हट जाए।

Best Sellers in Beauty

MARKET से ज्यादा सस्ते ONLINE मिलते है घर के डेली यूज़ के सामान

Best Sellers in Baby Products

Best Sellers in Watches

वायरल न्यूज़ के लिए Ajeeblog.com विजिट करिये 

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

Facebook, Twitter, WhatsApp, Telegram, Google News, Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *