सबसे पहले किस देश को मिलेगी चीन में बनी कोरोना वैक्सीन

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

सबसे पहले किस देश को मिलेगी चीन में बनी कोरोना वैक्सीन

Top Deals at Amazon

कोविड-19 के चीन में विकसित वैक्सीन को पहले पाने वाले देशों में ब्राजील, इंडोनेशिया और तुर्की शामिल हैं, जहां इस वैक्सीन के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण चल रहे हैं।

दवा कंपनी सिनोवैक के सीईओ यीन वेइदोंग ने संवाददाताओं को यह जानकारी दी।

वेइदोंग ने कहा, हमने ब्राजील में 21 जुलाई , इंडोनेशिया में एक अगस्त को और तुर्की में 16 सितंबर को क्लिनिकल परीक्षण के तीसरे चरण की शुरुआत की है।

हमें बंगलादेश में भी इसके लिए स्वीकृति प्राप्त हो गई है। प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन के पहले स्लॉट चीन के साथ ही ब्राजील, इंडोनेशिया और तुर्की में वितरित किए जाएंगे।

दीपिका ने ड्रग्स चैट की बात कबूली, श्रद्धा कपूर और सारा अली खान से NCB के सवाल-जवाब जारी

उन्होंने बताया कि कंपनी पहले से ही वैक्सीन की उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिए एक विनिर्माण संयंत्र का निर्माण कर रही है।

उन्होंने वैक्सीन के अनुमानित कलागत की जानकारी देने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि इसका मूल्य कई तरह के कारकों पर निर्भर करेगा।

यिन वेइदोंग ने सिनोवैक वैक्सीन के इस साल के अंत तक बाजार में आने की उम्मीद जताई।

चीन ने जून में ही कोविड-19 की वैक्सीन के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन से आपात मंजूरी हासिल कर ली थी, हालांकि तब चीन ने उस वैक्सीन के लिए मानव परीक्षण भी शुरू नहीं किए थे। डब्ल्यूएचओ के इस फैसले को लेकर चीन सरकार के प्रति उसके झुकाव को लेकर नए सिरे से विवाद खड़ा हो सकता है।

भारत ने पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिया करारा जवाब

डब्ल्यूएचओ चीन में कोरोना को महामारी घोषित करने में देरी करने को लेकर पहले ही अमेरिका समेत कई देशों की नाराजगी झेल चुका है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 23 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने अधिवेशन में भी डब्ल्यूएचओ को चीन द्वारा डिजिटल तौर पर नियंत्रित बताया था।

चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन के मेडिकल साइंस प्रमुख जेंग जोंगवेई ने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने जून के अंत में वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को हरी झंडी दे थी।

जेंग ने कहा कि इस वैक्सीन का उद्देश्य चिकित्सा कार्य और अन्य जोखिम भरे काम में लगे लोगों को सुरक्षा प्रदान करना था।

उस वैक्सीन ने अभी तक तीसरे चरण का मानव परीक्षण पूरा नहीं किया है। जेंग ने दावा किया कि वैक्सीन चीन के औषधि कानूनों के मुताबिक और

डब्ल्यूएचओ के मानकों के अनुरूप ही जोखिम वाले समूहों को दी गई।

सैमसंग गैलेक्सी A71, गैलेक्सी A51 और भी स्मार्टफ़ोन्स के कीमतों में हुई भारी कटौती

चीन के नेशनल बायोटेक ग्रुप के प्रमुख यांग जियाओमिंग ने कहा है कि करीब साढ़े तीन लाख लोगों को यह वैक्सीन परीक्षणों के पहले दी गई।

इसके तीसरे चरण के परीक्षण चल रहे हैं। गौरतलब है कि रूस ने भी टीके को आपात मंजूरी के तहत जनता के बीच टीकाकरण शुरू कर दिया है।

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:

FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram