26 साल बाद राज्‍यसभा उपसभापति चुनने के लिए वोटिंग, NDA ने कहा-हमारे पास बहुमत

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

नई दिल्ली : राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए सुबह 11 बजेे सेे मतदान शुरू हो गया. उपसभापति के लिए एनडीए के हरिवंश नारायण सिंह का मुकाबला विपक्ष के बीके हरिप्रसाद से हो रहा है. आंकड़ों के हिसाब से राज्यसभा सांसद हरिवंश नारायण की जीत पहले से ही तय मानी जा रही है, क्योंकि सदन में बीजेपी 126 सदस्यों के समर्थन का दावा कर रही है. बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हम हारी हुई बाजी नहीं खेलते. हमारे पास बहुमत का आंकड़ा है. हमारी जीत तय है. वहीं, बीमारी के बाद पहली बार अरुण जेटली राज्‍यसभा में उपस्थित हैं. 26 साल बाद उपसभापति पद के लिए चुनाव हो रहा है.

उच्‍च सदन की कार्यवाही शुरू होते ही उप राष्‍ट्रपति और राज्‍यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने कहा कि दलगत राजनीति से ऊपर उठकर वोट करें.

बीजेपी ने पास कितने वोट
सदन में वोटिंग से पहले ही बीजेपी ने दावा किया है कि पार्टी के पास 126 सदस्यों का समर्थन है. इसमें एनडीए के 91, अन्नाद्रमुक (13), टीआरएस (06), वाईएसआर कांग्रेस (02), इनेलोद (01), बीजेडी (09) सदस्य शामिल हैं. इसके अलावा अमर सिंह ने भी एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने का ऐलान किया है. वहींं, आम आदमी पार्टी, पीडीपी और वाईएसआई ने वोटिंग का बहिष्‍कार करने का ऐलान किया है. इनमें आप के 3, पीडीपी के दो, जबकि 2 सदस्‍य हैं.

कांग्रेस ने भी किया जीत का दावा
एक तरफ बीजेपी 126 सदस्यों के साथ होने का दावा कर रही है, तो दूसरी तरफ कांग्रेस ने 111 सदस्यों के समर्थन की बात कही है. कांग्रेस के 61 सदस्यों के अलावा, तृणमूल कांग्रेस और सपा के 13-13 सदस्यों, तेदेपा के छह, माकपा के पांच, बसपा और द्रमुक के चार चार सदस्यों, भाकपा के दो और जद एस के एक सदस्य का समर्थन मिलने की उम्मीद है. मतदान की प्रक्रिया से पहले कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने जीत का दावा करते हुए कहा कि अगर बीजेपी ने पास पर्याप्त संख्या होती तो वह अपना उम्मीदवार उतारती ना कि किसी अन्य दल के नेता को चेहरा बनाती.

राज्यसभा का मौजूदा समीकरण

कुल सांसद: 244

बहुमत: 123

एनडीए: 88+38 = 126

यूपीए: 47+62 = 109

241 सदस्य की लेंगे वोटिंग का हिस्सा
आज होने वाली इस वोटिंग में राज्यसभा के 241 सदस्य ही हिस्सा लेंगे, क्योंकि मतदान से कुछ वक्त पहले ही आम आदमी पार्टी के तीनों सदस्यों ने इसमें हिस्सा लेने से साफ इनकार कर दिया है.