MP: Discounts in Orange and Green zones are blowing people like this

Coronavirus Hotspots: किस जोन में हैं आप? जानिए क्या है Red, Orange और Green Zone का मतलब

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

Coronavirus Hotspots : COVID-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने संपूर्ण देश के अलग-अलग राज्‍यों के 170 जिलों को हॉटस्‍पॉट घोषित किया है। इसके अलावा सरकार ने शहरों, क्षेत्रों को तीन अलग-अलग जोन में भी बांटा है। Coronavirus Hotspots Red Zone, Orange Zone और Green Zone। हर जोन की एक अनिवार्यता है और उसके अनुसार जिले का नाम उसकी सूची में शामिल किया जाना है। आइये आसान भाषा में समझते हैं आप किस जोन में हैं और रेड, ऑरेन्‍ज और ग्रीन जोन का क्‍या अर्थ है।

Video : रीवा में लॉकडाउन का खुला उल्लंघन, नहीं सुधर रहें लोग, अब सीधे जेल भेज रही पुलिस

रेड जोन (Red Zone)

सरकार ने हॉटस्‍पॉट उन जिलों को रेड जोन के नाम से चिन्हित किया है जहां कोविड 19 के मामलों की संख्‍या ज्‍यादा है और संक्रमण की ग्रोथ रेट अधिक दर्ज की गई है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने रेड जोन के तहत ही 170 जिलों को सूचीबद्ध किया है। इनमें 123 जिले ऐसे हैं जहां कोरोना का अधिक कहर देखा गया जबकि 47 हॉटस्‍पॉट जिलों को क्‍लस्‍टर्स में बांटा गया है। अब इन क्षेत्रों में सरकार डोर-टू-डोर सुविधाएं उपलब्‍ध कराएगी।

ऑरेन्‍ज जोन (Orange Zone)

इस श्रेणी में वे क्षेत्र आते हैं, जहां पिछले कुछ समय में संक्रमण के सीमित मामले आए हैं। यहां सीमित एक्टिविटी जैसे पब्लिक ट्रांसपोर्ट, खेती के उत्‍पादों की हार्वेंस्टिंग आदि के लिए ही परमिशन है। छोटे एवं मध्‍यम उद्योग (MSMEs) के तहत आने वाले सामान जैसे गेहूं का आटा, खाद्य तेल आदि के परिवहन के लिए भी यहां परमिशन होगी। हॉटस्‍पॉट जिलों में ऑरेन्‍ज जोन वे जिले होंगे जहां पिछले 14 दिनों में एक भी कोरोना पॉजिटिव का केस सामने नहीं आया है।

ग्रीन जोन (Green Zone)

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार ग्रीन जोन ऐसे जिले हैं जहां कोरोना वायरस का एक भी पॉजिटिव केस चिन्हित नहीं किया गया है। इन जिलों की लिस्‍ट के अलावा अन्‍य वे जिले जहां पिछले 28 दिनों से एक भी कोरोना पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है, उन्‍हें भी इस ग्रीन जोन की सूची में शामिल किया जाएगा। इसके चलते इन क्षेत्रों में कुछ सेक्‍टर को सरकार की योजना के अनुसार छूट दी जा सकती है, जैसे-आवश्‍यक सेवाएं, बिजनेस मूवमेंट आदि। शराब की दुकानों को खोला जाना राज्‍य सरकार के रेवेन्‍यू में बड़ी भूमिका निभा सकता है, ऐसे में इस जोन में इसे शामिल किया जा सकता है।

पढ़ें : CORONA के जैसे इसने ली थी 1 लाख लोगो की जान, कई दिन सूरज नहीं निकला था

Video: लॉकडाउन पर रीवा पुलिस

Facebook Comments