आजम खान के समर्थकों ने पीएम मोदी को खून से लिखा खत

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

लखनऊ: सपा नेता आजम खान के बुरे दिन की शुरुआत हो चुकी है. उनपर लगातार शिकंजा कसता जा रहा है. आजम खान के खिलाफ इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा जांच के आदेश दिए जाने के विरोध में आजम खान के मीडिया प्रभारी फसाहत अली शानू ने खून से पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी है. अपनी चिट्ठी में अली शानू ने योगी सरकार पर आजम खान को जान बूझकर परेशान करने का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि योगी सरकार को चारो तरफ आजम खान का ही भ्रष्टाचार दिखता है. उन्हें जान बूझकर परेशान किया जा रहा है. अली शानू ने कहा कि आजम खान के समर्थक तब तक पीएम मोदी को चिट्ठी लिखते रहेंगे जब तक पीएम मोदी इसका जवाब नहीं दे देते.

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश उपाध्यक्ष फैसल खां लाला की शिकायत पर इनकम टैक्स विभाग से जांच शुरू कर दी है. अल्पसंख्यक विभाग ने फैसल खां को पत्र जारी कर इसकी जानकारी दी. फैसल खां ने बताया कि हमने आजम खान की आय से अधिक संपत्ति की जांच के संबंध में साल 2016 में शिकायत दर्ज कराई थी. उस मामले में अब आयकर विभाग के अपर निदेशक की ओर से जांच शुरू करते हुए जरूरी दस्तावेज मांगे गए हैं, ताकि जल्द से जल्द प्रभावी कार्रवाई हो सके. कांग्रेस नेता फैसल खां ने आजम खान पर नोटबंदी के दौरान गलत तरीके से नोट बदलने और विधायक निधि का गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था.

दूसरी तरफ सेना के खिलाफ गलत बयानबाजी करने के मामले में आजम खान के खिलाफ रामपुर में मुकदमा चलेगा. आजम खान ने मई 2017 में सेना पर विवादित बयान दिया था. इस बयान के बाद बीजेपी से जुड़े पूर्व मंत्री शिव बहादुर सक्सेना के बेटे आकाश सक्सेना ने रामपुर के सिविल लाइंस कोतवाली में रिपोर्ट कराई थी. दरअसल, साल 2017 में सपा विधायक आजम खान अपने गृहनगर रामपुर में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. वो पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार पर भड़ास निकाल रहे थे. बोलते-बोलते उनकी जुबान बहक गई और अचानक आजम खान वो बोल गए, जिसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता. आजम खान सरकार के खिलाफ जहर उगल रहे थे, लेकिन अचानक उन्होंने भारतीय सेना के खिलाफ बयानबाजी शुरू कर दी.