एक कमरे में चल रही थीं 114 कंपनियां, 30 कंपनियों का एक ही डायरेक्टर

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

हैदराबाद : शैल कंपनियों के खिलाफ सरकार द्वारा चलाई जा रही मुहिम के बाद इस मामले में एक और बड़ा खुलासा हुआ है. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद से एक बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है. यहां एक कमरे के अंदर एक दो नहीं बल्कि 114 कंपनियां संचालित हो रही थीं. एक रेड के बाद ये सनसनीखेज खुलासा हुआ. इतना ही नहीं इन कंपनियों ने बाकायदा इनकी बैलेंस शीट भी बना रखी थी. इनमें डायरेक्टर और उनकी सेलरी का भी पूरा विवरण मौजूद था. माना जा रहा है कि ये सभी कंपनियां शैल कंपनियां हैं. ये सभी कंपनियां हैदराबाद के पॉश इलाके जुबली हिल एरिया से चलाई जा रही थीं.

आठ अधिकारियों की एक टीम बुधवार सुबह फॉर्च्यून मोनार्क मॉल की तीसरी मंजिल पर एक सर्च के दौरान पहुंची. यहां उन्होंने एक कमरे की जांच के दौरान जो पाया, उसके बाद उनके होश उड़ गए. एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, जांच में मिलीं 114 कंपनियों में से 50 कंपनियों का कोई बिजनेस ही नहीं था. इनमें से कई ने अपने अापको 8 से 15 करोड़ के घाटे में बताया था. सूत्रों के अनुसार ये कंपनियां एक दूसरे से जुड़ी हुई थीं. इनका मुख्य काम पैसे को इधर से उधर करना था.

अधिकारियों के मुताबिक इन कंपनियों अपनी संपत्ति के रूप में खेती की जमीन को दिखाया हुआ था. जब्त कागजातों के मुताबिक कंपनियों के डायरेक्टर्स को बाकायदा हर महीने सैलरी भी दी जाती थी. चौंकाने वाला खुलासा ये है कि 25 से 30 कंपनियों का एक ही डायरेक्टर है. भारतीय कानून के मुताबिक एक व्यक्ति 20 से ज्यादा कंपनियों में डायरेक्टर नहीं हो सकता. ये रेड दिल्ली से मिले उस दिशा निर्देश के बाद की गई, जहां से कहा गया था कि ऐसी जगह सर्च किया जाए, जहां एक ही जगह से 25 से 30 कंपनियां चल रही हैं.

कहा जा रहा है कि अभी ऐसी कम से छह और जगह हैं, जहां पर एक ही घर में 48, 38, 33 और 28 से ज्यादा कंपनियां चल रही हैं. सूत्रों के अनुसार, एसआरएसआर एडवायजरी सर्विस इन सभी कंपनियों की अकाउंटेंट है.