हजारों से चली आ रही मेले की परंपरा पुरखों की देन है, जो बंद नहीं होनी चाहिए

हजारों से चली आ रही मेले की परंपरा पुरखों की देन है, जो बंद नहीं होनी चाहिए

शहडोल

हजारों से चली आ रही मेले की परंपरा पुरखों की देन है, जो बंद नहीं होनी चाहिए

शहडोल । मकर संक्रांति नजदीक आ चुकी है जिसे लेकर लोगों में उत्साह धीरे-धीरे बढ़ रहा है। तो वहीं दूसरी कोरोना के कारण मेले के आयोजन पर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। जिले के ग्राम पंचायत बरगवां में इस बार मकर संक्रांति पर मेला लगेगा या नहीं लगेगा इस पर अभी विचार चल रहा है। लेकिन सालों से चली आ रही परंपरा का निर्वहन होगा या फिर इस बार कोरोना की भेंट मेला चढ़ जाएगा।

हजारों से चली आ रही मेले की परंपरा पुरखों की देन है, जो बंद नहीं होनी चाहिए

हालांकि जिला मुख्यालय के बाण गंगा मेले की तैयारी शुरू हो गई है उससे लगता है कि बरगंवा में भी मेला लग सकता है। यहां हनुमान जी का मंदिर है जहां पर लोग स्नान करने के बाद दर्शन करने जाते हैं। इस गांव से सोन नदी निकली है जहां इस नदी के किनारे ही मेला लगता है।

Covaxin टीका लगवाने वाले वाॅलंटियर दीपक की मौत पर मचा बवाल

लोगों का कहना है कि बरगवां का मेला यहां से निकलने वाली पवित्र सोन नदी और सबसे अहम यहां का हनुमान मंदिर है जहां मकर संक्रांति के दिन दूर दूर से लोग अपनी आस्था लेकर पहुंचते हैं और नदी में स्नान कर हनुमान जी के दर्शन कर पूजन करते हैं।

यह परंपरा सदियों से चली आ रही है और हमारे पुरखों की देन है इसे खत्म नहीं करना चाहिए। यहां के लोगों का कहना है कि मेले से बरगवां की पहचान है जिसे खत्म नहीं किया जाना चाहिए। इस संबंध में रोहित विश्वकर्मा ए रवि मिश्रा ए दीपक तिवारी, अरुण मिश्रा, संजय नापित सहित कई युवाओं और बुजुर्गों ने मेला लगने का समर्थन किया है। बरगवां में तीन दिवसीय मेला लगता है। जिसमे कई बेरोजगारों को कुछ समय के लिए रोजगार तो मिलता है।

Covaxin टीका लगवाने वाले वाॅलंटियर दीपक की मौत पर मचा बवाल

परशुराम आश्रम पहुंचे पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ल, सनकादिक महाराज से लिया आशीर्वाद

राष्ट्रीय हैंडबाॅल कोच बने रीवा के प्रिंस, राष्ट्रीय स्तर पर खिलाड़ियों को तैयार करने का लक्ष्य

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *