LOCKDOWN: MAIHAR MLA Narayan Tripathi's warning, will not be allowed.

LOCKDOWN: MAIHAR विधायक नारायण त्रिपाठी की चेतावनी, नहीं बनने देंगे.

सतना

LOCKDOWN: MAIHAR विधायक नारायण त्रिपाठी की चेतावनी, नहीं बनने देंगे.

MAIHAR. कोरोना लॉकडाउन ( LOCKDOWN) 2.0 के बीच जिले में सियासत ने रंग ले लिया है। शुरुआत मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने की है। उन्होंने सतना-कटनी बार्डर पर क्वारंटाइन सेंटर का विरोध किया है। कहा कि एनएच 7 पर मैहर होने का मतलब यह नहीं कि लॉकडाउन ( LOCKDOWN) तोड़ने का दंश मैहर भुगते। स्पष्ट किया कि मैहर में कोई क्वारंटाइन सेंटर नहीं खुलेगा। सवाल उठाए कि जब लॉकडाउन ( LOCKDOWN) है तो फिर लोग क्यों आ रहे हैं? प्रधानमंत्री के आदेश नहीं माने जा रहे हैं तो यह गलत है?

CORONA पॉजिटिव बंदियों को लेकर REWA आने वाले पुलिस की स्क्रीनिंग तक नहीं

मच गया हड़कम्प

दरअसल, शासन के नियमानुसार जिला प्रशासन सतना-कटनी बार्डर पर बाहर से आने वालों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाकर लोगों को यहां रोक रहा है। स्थानीय विधायक नारायण त्रिपाठी ने इसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शुक्रवार को जिला प्रशासन के पास राजधानी से विधायक नारायण त्रिपाठी के मामले को निराकृत करने का संदेश आया तो तहलका मच गया। मामले को देखने के लिए कलेक्टर देर शाम मैहर और सतना-कटनी बार्डर के लिय निकल गए थे। रात करीब 9 बजे तक वे यहां की स्थितियों का जायजा ले रहे थे।
प्रशासन की पेशानी पर बल

सतना-कटनी बार्डर पर जिले और राज्य के बाहर से आने वालों को सीधे जिले में प्रवेश न देकर उन्हें स्क्रीनिंग उपरांत तय दिनों के लिए क्वारंटाइन सेंटर में रखने की व्यवस्था की गई है। इसके लिए बार्डर पर दो सेंटर बनाए गए हैं, लेकिन स्थानीय विधायक नारायण त्रिपाठी इसके खिलाफ हैं। वे नहीं चाहते कि मैहर क्षेत्र में कोई भी क्वारंटाइन सेंटर बने। उनका कहना है कि यहां स्क्रीनिंग करके आगे जाने वालों को सीधे आगे जाने दिया जाए। यहां किसी को न रोका जाए।

Shivraj मंत्रिमंडल गठन को मिली हरी झंडी, ये बड़े नेता पहुंचे Bhopal..

तो परिणाम भयंकर हो सकते हैं

अब जिला प्रशासन इस उहापोह में है कि अगर विधायक की बात को माना जाता है और बाहर से आने वाले लोगों को सीधे जिले में प्रवेश दे दिया जाता है, तो अगर कोई कोरोना पीडि़त हुआ तो उसके परिणाम भयंकर होंगे। वैसे भी कटनी के रास्ते काफी संख्या में लोग इंदौर से आ रहे हैं। अगर नहीं मानते तो यह एक राजनीतिक मुद्दा बन सकता है।

मैहर विधायक की चेतावनी
विधायक नारायण त्रिपाठी ने बताया कि मैहर कोई क्वारंटाइन सेंटर नहीं है। एनएच 7 पर है मैहर, जो भी लोग कटनी तरफ से आ रहे हैं, वे भी हमारे अपने लोग हैं। वो जैसे आ रहे हैं, उन्हें चेक कर आगे भेजते जाएं। मैहर में कहीं कोई क्वारंटाइन सेंटर नहीं खोलने देंगे। बार्डर पर लोगों के रोकने और क्वारंटाइन करने के शासन के आदेश पर भी सवाल खड़े किए। कहा, जब लॉकडाउन ( LOCKDOWN) है तो कोई क्यों आ रहा है? इस संबंध में सीएम सहित सभी को अवगत करा दिया है। साथ ही अपील भी कि है कि जिनके घर परिवार के लोग बाहर हैं उन्हें वहीं रोंके।

क्या है बार्डर क्वारंटीन सेंटर

अन्य जिलों या प्रांतों से आने वाले लोगों को बार्डर पर रोक कर स्क्रीनिंग की जाती है। इसके बाद इन्हें तय समय के लिये बार्डर के पास शासकीय भवन (जहां किसी अन्य को आने जाने की अनुमति नहीं होती) में निगरानी में रखा जाता है। इस अवधि में अगर कोरोना के लक्षण नहीं मिलते हैं तो जिले की सीमा के अन्दर संबंधितों को आने दिया जाता है।

” मामला संज्ञान में आया है। इस संबंध में अभी बार्डर सीमा की स्थिति देखने आए हैं। विधायक से स्थानीय लोगों ने आपत्ति की थी, सभी संबंधित पक्षों से चर्चा की जा रही है। “
– अजय कटेसरिया, कलेक्टर

Facebook Comments