रीवा में इस बार फिर आ सकती है बाढ़, जानिये क्या है कारण, सरकार का ये है इंतजाम

रीवा

रीवा। पहली बारिश में ही कई मोहल्लों में हुए जलभराव के चलते अब नगर निगम प्रशासन ने व्यवस्था बनाना शुरू कर दिया है। पहले दिन पानी का बहाव नहीं हो पाने की वजह से मकानों और दुकानों में पानी घुस गया था। अब नगर निगम ने बाढ़ आपदा की पूर्व तैयारियां प्रारंभ कर दी हैं। जिसके तहत शहर में 20 स्थानों पर राहत शिविर बनाए गए हैं और वहां पर कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई है। साथ ही अधिकारियों से कहा गया है कि तेज बारिश के दौरान वह स्वयं मौके पर पहुंचें और हालात का जायजा लें।
स्वास्थ्य अधिकारी अरुण मिश्रा आपात स्थिति पर अधिकारियों और कर्मचारियों को व्यवस्था बनाने के अन्य निर्देश भी जारी करेंगे। इतना ही नहीं पानी के भराव की जानकारी होने पर उसकी निकासी के इंतजाम और प्रभावितों को सुरक्षित स्थान तक पहुंचाने की जवाबदेही भी उनकी होगी। बाढ़ के दौरान प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाने और उनके ठहरने की व्यवस्था के साथ ही पेयजल का भी इंतजाम करेंगे।



पानी का बहाव रोकने वाले अतिक्रमण को हटाने का भी निर्देश
नगर निगम आयुक्त ने जारी आदेश में यह भी कहा है कि पानी का बहाव कई स्थानों पर अतिक्रमण की वजह से रुक जाता है। ऐसे स्थानों को चिन्हित कर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने के लिए भी कहा गया है। इसके पहले भी कई बार मोहल्लों में पानी भरने की सूचनाएं आती रही हैं लेकिन जिस अतिक्रमण की वजह से समस्या आई उसे हटाया नहीं गया। अमहिया नाले के कुछ हिस्सों में कार्रवाई जरूर हुई थी लेकिन वह भी अधिक कारगर साबित नहीं हुई।

इन स्थानों पर रहेंगे शिविर
बाढ़ प्रभावित क्षेत्र कुठुलिया के लोगों को सिलपरा स्कूल, महाजन टोला वालों को मूकबधित विद्यालय, बिछिया-अखाड़घाट से जगन्नाथ मंदिर, रानीतालाब से डाइट और मंगलभवन, पांडेनटोला में मोहल्ले की हायरसेकंडरी स्कूल, नगरिया और तरहटी से गवर्नमेंट स्कूल एक और दो, घोघर, तकिया और बंदरिया से एसके स्कूल, निपनिया से आयुर्वेद कॉलेज, लखौरीबाग, दीनदयाल धाम और ढेकहा से एजी कॉलेज, पुष्पराज नगर से आयुर्वेद कॉलेज, बांसघाट से मार्तण्ड स्कूल क्रमांक एक और तीन, झिरिया से टीआरएस कॉलेज, रसिया मोहल्ला से मानस भवन, अमहिया और उर्रहट से पीके स्कूल, ललपा और बंदराव से श्रवण कुमारी स्कूल, निराला नगर और शिवनगर के लोगों को मोहल्ले की सरस्वती स्कूल में बाढ़ के दौरान रखा जाएगा।

बाढ़ नियंत्रण कक्ष भी प्रारंभ किया गया
बाढ़ नियंत्रण कक्ष भी निगम ने प्रारंभ कर दिया है। साथ ही फोन नंबर 07662-254568 भी जारी किया गया है। इसके अलावा निगम के सभी अधिकारियों को अपना मोबाइल २४ घंटे चालू रखने का निर्देश दिया गया है। बिजली नहीं होने की स्थिति में पूर्व से ही पॉवर बैंक चार्जर की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है। सभी जोन प्रभारी अपना और कर्मचारियों का मोबाइल नंबर प्रमुख स्थानों पर चस्पा कराएंगे ताकि लोगों को परेशानी नहीं हो।

बारिश के दौरान जहां पर जलभराव हुआ था, उन स्थानों पर पानी निकासी की व्यवस्था बनवाई जा रही है। साथ ही बाढ़ राहत शिविर भी बनाए गए हैं, यहां पर आपात स्थिति में अधिकारी, कर्मचारी मौजूद रहेंगे और लोगों को फौरी राहत उपलब्ध कराएंगे।
अरुण मिश्रा, स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम<