रीवा : अटल जी का निधन वैश्वविक क्षति-राजेन्द्र शुक्ल

रीवा

रीवा । भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री पं.अटल विहारी वाजपेयी के निधन का समाचार मिलते ही भाजपा कार्यकर्ताओं में शोक की लहर व्याप्त हो गई। पार्टी कार्यालय में बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता अपने प्रिय नेता को खोने का गम लेकर एकत्रित हुये। रीवा जिले से अटल जी का गहरा नाता था कई वार रीवा में चुनावी सभाओं में एवं वाणसागर का लोकापर्ण 2006 में करने पधारे थे। प्रदेश के उद्योग एवं खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने अटल जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हुये कहा कि उन्होने अपने सर्वस्पर्शी व्यक्तित्व के कारण देश ही नहीं पूरे विश्व में सम्माननीय व्यक्तित्व के रूप में जाने पहचाने जाते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी निष्ठा और समपर्ण और विदेश मंत्री और प्रधानमंत्री के नाते पूरे विश्व में देश का सम्मान बढ़ाया और हिन्दी को वैश्वविक स्वरूप दिया उनके चले जाने से वैश्वविक क्षति हुई है।

दीपक धर्मी व्यक्तित्व के धनी थे अटल जी – वीडी शर्मा
भाजपा प्रदेश महामंत्री वीडी शर्मा ने भाजपा कार्यालय रीवा में कार्यकर्ताओं के बीच अटल जी के कृतित्व एवं व्यक्तित्व पर चर्चा करते हुये कहा कि अटल जी दीपक धर्मी थे जो स्वतः अपने को जलाकर देश और विदेश में पार्टी की पहचान को स्थापित किया। पार्टी का जो विराट स्वरूप दिखाई दे रहा है उसमें अटल जी की इच्छाशक्ति संगठन कौशल का ही योगदान है।

सहज और सरल व्यक्तित्व के धनी थे अटल जी-जर्नादन मिश्रा
रीवा सांसद जर्नादन मिश्र ने अटल जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि अटल जी के रूप में हमारे पास ऐसी धरोहर थी जो सदैव ही पार्टी में सबकी चिंता करने बाले पिता की तरह थे उनके चले जाने से पिता का साया सर से उठ गया है।
मूल्य आधारित राजनीति के नायक थे अटल जी-जितेन्द्र लिटोरिया

भाजपा संभागीय संगठनमंत्री जितेन्द्र लिटोरिया ने अटल जी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये कहा कि उन्होने जीवन पर्यन्त राष्ट्रीय एकात्मभाव को लेकर राजनीति की और मूल्य आधारित राजनीति के नायक थे उन्होने देश में मिली जुली सरकार चलाकर नये युग की शुरुआत की।
अटल जी का निधन अपूर्णीय क्षति-कमलेश्वर सिंह

पार्टी के वरिष्ठ नेता केशव पाण्डेय, कमलेश्वर सिंह ने अटल जी के निधन को भारतीय राजनीति के लिये अपूर्णीय क्षति निरूपित करते हुये कहा कि उनका अवशान देश के लिये अपूर्णीय क्षति है।
युगदृष्टा सर्वस्पर्शी नेता थे अटल जी-विद्याप्रकाश श्रीवास्तव

भाजपा जिलाध्यक्ष विद्याप्रकाश श्रीवास्तव ने अटल जी के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हुये कहा कि देश में समन्वयवादी राजनीति के प्रणेता थे वो मध्यप्रदेश के माटी के लाल थे उन्होने दलगत राजनीति से उपर उठकर विरोधीदल के नेताओं के भी चहेता थे उनकी छवि दलगत राजनीति से कहीं उपर थी। वे एक युगदृष्टा और चुम्बकीय व्यक्तित्व के धनी थे उनका चला जाना एक युग का अंत है।
पार्टी कार्यालय में भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें नम आंखो से अपना अपना श्रद्धासुमन अर्पित किया। महापौर श्रीमती ममता गुप्ता, प्रदीप सिंह पटना, राम सिंह, राजेन्द्र ताम्रकार, रमेश गर्ग, अर्जुन सिंह चौहान, प्रबोध ब्यास, प्रेमप्रकाश पाण्डेय, रामसज्जन शुक्ला, रामायण साकेत, कल्पना श्रीवास्तव, शशिकिरण मिश्रा, मनीषा पाठक, विमलेश मिश्रा, नागेन्द्र सिंह कल्चुरी, राजेन्द्र मिश्रा, जयकांत अग्रवाल, पंचूलाल प्रजापति, बीरेश पाण्डेय, विवेक गौतम, रमेश गुप्ता, नरेन्द्र गुप्ता, नारायण मिश्रा, केपी त्रिपाठी, साबिर खांन, सरस्वती गुप्ता, अंजू मिश्रा, सत्या द्विवेदी, विवेक पाण्डेय शास्त्री, अजय सिंह, शिवम द्विवेदी, दुर्गा तिवारी, अरुण तिवारी मुन्नू, डा.राघवेन्द्र द्विवेदी, रितेश मिश्र, संभागीय मीडिया प्रभारी योगेन्द्र शुक्ला सहित भाजपा कार्यकर्ताओं ने अपनी-अपनी अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये दवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।