रीवा: मृत पशुओं को दफनाने के मामले में स्वास्थ्य अधिकारी समेत 4 सस्पेंड, 5 को नौकरी से निकाला

रीवा

रीवा। नगर निगम परिसर में मृत मवेशी दफनाने के मामले में मंगलवार को स्वास्थ्य अधिकारी सहित चार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया। जबकि पांच लोगों की सेवा समाप्ति कर दी गई।

विवार को मामला सामने आने व कांग्रेस के विरोध के बाद काफी तूल पकड़ चुका था। थाने में एफआईआर भी दर्ज हो चुकी थी। इससे तय था कि किसी न किसी पर गाज अवश्य गिरेगी। लिहाजा मंगलवार को एमआईसी बैठक में स्वास्थ्य अधिकारी को जिमेदार ठहराया गया। गौरतलब है, कोष्टा में ग्रामीणों के विरोध के कारण मृत मवेशी शहर से उठाए तो गए लेकिन उन्हें फेंका नहीं जा सका था।

तीन दिनों तक यूं ही मृत मवेशी सफाई गोदाम में पड़ी रहे। मृत मवेशियों के सडऩे से हल्ला मचा तो उन्हें नगर निगम परिसर में रातों रात दफना दिया गया। मामला पुलिस थाना और शासन तक पहुंच गया। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई और एफआईआर तक की नौबत आई गई। पुलिस में मामले की शिकायत तो दर्ज हुई ही, साथ ही नगर निगम के दोषियों पर भी कार्रवाई की फाइल चल पड़ी।

इसका नतीजा यह हुआ कि स्वास्थ्य अधिकारी अरुण मिश्रा सहित 8 कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई का प्रस्ताव एमआईसी की बैठक में भेजा गया। बैठक में सपत्ति अधिकारी को दोषी मानते हुए निलंबन की स्वीकृति प्रदान कर दी गई। आयुत ने भी एमआईसी से प्रस्ताव पास होते ही अरुण मिश्रा स्वास्थ्य अधिकारी को निलंबित कर दिया। हालांकि, इस कार्रवाई और तीन दिनों तक चले घटनाक्रम ने पक्ष, विपक्ष और निगम प्रशासन की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं।

ये हुए निलंबित 

  1. अरुण मिश्रा, स्वास्थ्य अधिकारी 
  2. दिनेश द्विवेदी, चौकीदार 
  3. मोहम्मद शफीक खान, चौकीदार 
  4. दिनेश कॉल, चौकीदार 

इनकी सेवाएं समाप्त 

  1. वरुण/बृजमणि 
  2. प्रमोद/गजाधर 
  3. जगदीश/जऊनलाल 
  4. बृजेश/संतोष 
  5. राकेश/मोनू