रीवा: मुकुंदपुर टाइगर सफारी में जन्मा पहला एल्बीनो ब्लैक बक, पढ़िए पूरी खबर

रीवा: मुकुंदपुर टाइगर सफारी में जन्मा पहला एल्बीनो ब्लैक बक, पढ़िए पूरी खबर

रीवा

रीवा: मुकुंदपुर टाइगर सफारी में जन्मा पहला एल्बीनो ब्लैक बक, पढ़िए पूरी खबर

रीवा: मुकुंदपुर टाइगर सफारी विंध्य के लिए ही नहीं मध्यप्रदेश के लोगो के लिए बड़ी बात है. आपको बता दे की रीवा के मुकुंदपुर मुकुंदपुर चिडिय़ाघर में वन्य प्राणियों की संख्या बढ़ती जा रही है। चिडिय़ाघर में एल्बीनो ब्लैक बक ने बच्चे को जन्म दिया है। चिडिय़ाघर में यह इकलौता बच्चा है। बताया गया है कि मार्च माह में दिल्ली के चिडिय़ाघर से एल्बीनो ब्लैक बक का इकलौता जोड़ा लाया गया था।

जिला मुख्यालय से बाहर नहीं जा सकेंगे मध्यप्रदेश के पुलिसकर्मी, लगाया गया प्रतिबन्ध

सूत्रों के अनुसार मुकुंदपुर में एल्बीनो ब्लैक बक का इकलौता जोड़ा है। अब इनकी संख्या बढ़कर तीन हो गई है। यह ब्लैक बक की प्रजाति है लेकिन पूरी तरह सफेद होने की वजह से इसे एल्बीनो ब्लैक बक का नाम दिया गया है।

सूत्रों का माने तो जन्म के बाद फीमेल एल्बीनो ब्लैक बक ने अपने बच्चे को दूध नहीं पिलाया। कर्मचारी ही हर दो से तीन घंटे में बोतल से बच्चे को बकरी का दूध पिला रहे हैं।

MP: 727 ग्रामों की 15 लाख आबादी को मिलेगा चम्बल नदी का पेयजल


खाना नहीं मिला तो SGMH रीवा से भाग निकला कोरोना पॉजिटिव भर्ती मरीज, ऐसे पकड़ा गया

रीवा. कोरोना वायरस का कहर जिले में दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. वहीं इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीज अव्यवस्था और लापरवाही का शिकार हो रहें हैं. ऐसे ही एक कोरोना पॉजिटिव मरीज SGMH से भाग निकला, जिसे आज पकड़कर वापस भर्ती करा दिया गया है.

बताया जा रहा है शहर के वार्ड न 15 निवासी एक कोरोना पॉजिटिव मरीज संजय गाँधी अस्पताल (SGMH) के COVID-19 वार्ड से रफूचक्कर हो गया. वह आज सेमरिया में पकड़ा गया है. मरीज ने अस्पताल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाए हैं. मरीज के अनुसार उसे खाना नहीं दिया जा रहा था. उसे पॉजिटिव पाए जाने के बाद 29 जुलाई को SGMH में भर्ती कराया गया था. 

REWA में नहीं अपराधियों को खौफ, दिनदहाड़े किशोरी का अपहरण

अस्पताल से भागा कोरोना मरीज कुछ दूर तक पैदल चला, इसके बाद वह ऑटो रिक्शा के सहारे सेमरिया पहुँच गया. मरीज वापस अस्पताल न लौटने की बात कर रहा था. आम आदमी पार्टी के नेता प्रमोद शर्मा द्वारा मरीज के सेमरिया में होने की सूचना प्रशासन को दी गई, इसके बाद उसे एम्बुलेंस से वापस संजय गाँधी अस्पताल ले जाया गया. 

इस भागे हुए मरीज की तरह ही ऐसे कई कोरोना मरीज है जो लगातार अस्पताल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते आ रहें हैं. इसके साथ ही सबसे बड़ा सवाल यह है कि कोरोना पॉजिटिव मरीज इतनी आसानी से अस्पताल से भाग कैसे निकला? 

अस्पताल से भागने के बाद यह कोरोना पॉजिटिव मरीज किस किस के संपर्क में आया, किस ऑटो रिक्शा से वह सेमरिया तक पहुँचा. अब यह बात भी प्रशासन के लिए मुश्किल खड़ा कर सकती है. 

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:  

FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram

 

Facebook Comments